खेती में महिला किसानों के अदृश्य हाथ


Advt

आज कृषि, जो सकल घरेलू उत्पाद में लगभग 16% का योगदान करती है, तेजी से महिला केंद्रित हो रही है। कृषि क्षेत्र आर्थिक रूप से सक्रिय महिलाओं में से 80% को रोजगार देता है; इनमें 33% कृषि श्रम शक्ति और 48% स्व-नियोजित किसान शामिल हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत में लगभग 18% किसान परिवार महिलाओं के नेतृत्व में हैं। कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय ने बुवाई से लेकर रोपण, जल निकासी, सिंचाई, उर्वरक, पौधों की सुरक्षा, कटाई, निराई तक कृषि में हर स्तर पर महिलाओं की बहुआयामी भूमिका को मान्यता देते हुए  फसल की खेती, पशुपालन, डेयरी और मत्स्य पालन में महिला किसानों के सामने आने वाली चुनौतियों पर चर्चा करने के लिए विचार-विमर्श का प्रस्ताव रखा है। इसका उद्देश्य बेहतर ऋण  पहुंच, कौशल विकास और अन्य अवसरों का उपयोग करते हुए एक दिशा में काम करना है।

फसल की खेती, पशुधन प्रबंधन या घर पर महिला किसानों द्वारा किए गए काम पर अक्सर किसी का ध्यान नहीं जाता है। ग्रामीण महिलाएं सामाजिक-आर्थिक स्थिति के आधार अलग-अलग तरीकों से कृषि गतिविधियों में काम करती हैं जैसे कृषि मजदूर या किसान के रूप में अपनी जमीन पर श्रम या कटाई के बाद के कार्यों में भागीदारी। सरकार द्वारा उन्हें मुर्गी पालन, मधुमक्खी पालन और ग्रामीण हस्तशिल्प में प्रशिक्षण देने का प्रयास उनकी बड़ी संख्या को देखते हुए बहुत ही कम है। खेती में महिलाओं की रुचि को बनाए रखने और उनके उत्थान के लिए, एक उपयुक्त नीति और साध्य दृष्टि होनी चाहिए। हालाँकि अब  "कृषि का नारीकरण" तीव्र गति से हो रहा है, सरकार ने भी महिला किसानों और मजदूरों के सामने आने वाली चुनौतियों का समाधान करने के लिए कमर कस ली है। सबसे बड़ी चुनौती महिलाओं की उस भूमि के स्वामित्व का दावा करने की शक्तिहीनता है जिस पर वे खेती कर रही हैं।

देश में  लगभग 86% महिला किसानों के पास समाज में स्थापित पितृसत्तात्मक व्यवस्था के कारण जमीन पर संपत्ति का अधिकार नहीं है। विशेष रूप से, भूमि के स्वामित्व की कमी महिला किसानों को संस्थागत ऋण के लिए बैंकों से संपर्क करने की अनुमति नहीं देती है क्योंकि बैंक आमतौर पर भूमि को पॉपर्टी मानते हैं। देखें तो महिला किसानों का समाज में शायद ही कोई प्रतिनिधित्व है और किसान संगठनों में या कभी-कभार विरोध में कहीं भी दिखाई नहीं देती हैं। (हाल ही में हुए किसान आंदोलन को छोड़कर) वे अदृश्य श्रमिक हैं जिनके बिना कृषि अर्थव्यवस्था का विकास करना कठिन है। महिला काश्तकार और मजदूर आम तौर पर श्रम प्रधान कार्य करते हैं (गुदाई, घास काटना, निराई करना, चुनना, कपास की छड़ी संग्रह करना, पशुओं की देखभाल करना)। खेत पर काम करने के अलावा उन पर घरेलू और पारिवारिक जिम्मेदारियां भी होती हैं।

पुरुष किसानों की तुलना में लंबे समय तक अधिक काम के बावजूद, महिला किसान न तो उत्पादन पर कोई दावा कर सकती हैं और न ही उच्च मजदूरी दर की मांग कर सकती हैं। कम मुआवजे के साथ बढ़ा हुआ काम का बोझ उनके हाशिए पर जाने के लिए जिम्मेदार एक प्रमुख कारक है। विभिन्न कृषि कार्यों के लिए लिंग-अनुकूल उपकरण और मशीनरी का होना महत्वपूर्ण है। अधिकांश कृषि यंत्रों को चलाना महिलाओं के लिए कठिन होता है। इन सबके बेहतर समाधान के लिए महिला उपयोगी कृषि उपकरणों को प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। कई राज्य सरकारों द्वारा प्रचारित कृषि मशीनरी बैंकों और कस्टम हायरिंग केंद्रों को महिला किसानों को रियायती किराये पर सेवाएं प्रदान करने के लिए जोड़ा जा सकता है। खेती को अधिक उत्पादक बनाने के लिए महिलाओं की आम तौर पर संसाधनों और आधुनिक  बीज, उर्वरक, कीटनाशक तक कम पहुंच होती है।

खाद्य और कृषि संगठन का कहना है कि महिला और पुरुष किसानों के लिए उत्पादक संसाधनों तक पहुंच समान होने से विकासशील देशों में कृषि उत्पादन में 2.5% से 4% तक की वृद्धि हो सकती है। हर जिले में कृषि विज्ञान केंद्रों को विस्तार सेवाओं के साथ-साथ नवीन प्रौद्योगिकी के बारे में महिला किसानों को शिक्षित और प्रशिक्षित करने के लिए एक अतिरिक्त कार्य सौंपा जा सकता है। जैसे-जैसे अधिक से अधिक महिलाएं खेती में शामिल हो रही हैं, उनके भरण-पोषण के लिए सबसे महत्वपूर्ण कार्य भूमि में संपत्ति का अधिकार देना है। एक बार जब महिला किसानों को प्राथमिक अर्जक और भूमि संपत्ति के मालिकों के रूप में स्वीकृति मिल जाएगी तो उनकी गतिविधियों का विस्तार ऋण प्राप्त करने के लिए होगा।

तब वे उपयुक्त तकनीक और मशीनों का उपयोग करके उगाई जाने वाली फसलों का फैसला कर सकती हैं, और उपज को गांव के व्यापारियों या थोक बाजारों में बेच सकती हैं, इस प्रकार वे वास्तविक  किसानों के रूप में अपना स्थान ऊंचा कर सकती हैं। रोजगार से पूर्ण आर्थिक लाभ प्राप्त करने के लिए, ग्रामीण महिलाओं को उनके व्यवसायों पर अधिक विकल्प प्रदान किया जाना चाहिए ताकि वे पुरुषों द्वारा छोड़े गए काम को करने के लिए मजबूर न हों। नेशनल बैंक फॉर एग्रीकल्चर एंड रूरल डेवलपमेंट की माइक्रोफाइनेंस पहल के तहत महिलाओं के लिए विशेष ऋण के प्रावधान को प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। महिलाओं की जरूरतों के अनुकूल उपकरण और मशीनरी बनाने के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। हर जिले में कृषि विज्ञान केंद्रों को विस्तार सेवाओं के साथ-साथ नवीन प्रौद्योगिकी के बारे में महिला किसानों को शिक्षित और प्रशिक्षित करने के लिए कार्यक्रम हो सकता है।


Advt



सांगरी टाइम्स हिंदी न्यूज़ के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और टेलीग्राम पर जुड़ें .
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBEचैनल को विजिट करें