पुरुषों की दुनिया में पुरुष होने की ज़रूरत नहीं-विद्या बालन

मुंबई : विद्या बालन अभिनीत अमेज़ॅन प्राइम वीडियो की आगामी मूल फिल्म "शेरनी" एक पथप्रदर्शक कहानी है, जो एक महिला वन अधिकारी की असामान्य नौकरी और उनकी शादी के माध्यम से नेविगेट करते हुए उनके सफ़र को दर्शाती है। 
विद्या बालन ने इस फिल्म की तैयारी पर प्रकाश डालते हुए कहा, "मैं वास्तव में कुछ वन अधिकारियों से यह समझने के लिए मिली थी कि उनकी नौकरी में क्या शामिल है ... जिसमें एक वन अधिकारी बनने के लिए ट्रेनिंग, विभिन्न पोस्टिंग और उनके सामने आने वाली चुनौतियों से जुड़ी स्टडी आती है। काम की प्रकृति ऐसी है कि यह कई बार शारीरिक रूप से कठिन और खतरनाक भी हो सकता है, इसलिए पारंपरिक रूप से पुरुष प्रधान था, लेकिन इन महिला अधिकारियों ने साझा किया कि कैसे वे पितृसत्तात्मक मानसिकता के आसपास अपना रास्ता तय करती हैं ... यह सब बहुत मददगार था।" 
अपने करैक्टर के बारे में उन्होंने कहा, "विद्या विन्सेंट के बारे में मुझे जो पसंद है वह यह है कि वह कुछ शब्दों की महिला है और फिर भी वह जिस चीज में विश्वास करती है उसके लिए खड़े होने का साहस रखती है ... इसलिए आपको आक्रामक होने या पुरुषों की दुनिया में पुरुष होने की ज़रूरत नहीं है, आप एक महिला की तरह रह सकती हैं और फिर भी अपना रास्ता खोज सकती हैं।" 
विद्या बालन के साथ-साथ शरत सक्सेना, मुकुल चड्ढा, विजय राज, इला अरुण, बृजेंद्र कला और नीरज काबी जैसे नाम आपका मनोरंजन करने के लिए तैयार हैं। टी-सीरीज़ और अबुदंतिया एंटरटेनमेंट द्वारा निर्मित, यह मस्ट-वॉच ड्रामा न्यूटन-फेम निर्देशक अमित मसुरकर द्वारा निर्देशित है। प्राइम मेंबर्स 'शेरनी' को 18 जून से एक्सक्लूसिव तौर पर ऐमजॉन प्राइम वीडियो पर स्ट्रीम कर सकते हैं।

सांगरी टाइम्स हिंदी न्यूज़ के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और टेलीग्राम पर जुड़ें .
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBEचैनल को विजिट करें