रामगोपाल वर्मा ने दो सगे भाइयों को बनाया "डी कंपनी" का गैंगस्टर

मुंबई : भारतीय फिल्म इंडस्ट्री को कई कल्ट फिल्में देने वाला डायरेक्टर राम गोपाल वर्मा जल्द ही अपनी नई फिल्म डी कम्पनी लेकर दर्शकों के सामने होंगे। इस फिल्म में वो एक बार फिर से मुंबई के गैंगस्टर्स की कहानी दिखाएंगे। राम गोपाल वर्मा ने अपनी कई फिल्मों में मुंबई में हुए गैंग वॉर की कहानी दिखाई है और एक बार फिर से वो दर्शकों को ऐसी की एक दिलचस्प कहानी सुनाने वाले हैं। 
       वर्मा अपने अगले महत्वाकांक्षी फिल्म प्रोजेक्ट डी कंपनी से अभिनेता अश्वत कंठ को बॉलीवुड के नए दाऊद इब्राहिम और उनके भाई रुद्र कंठ को शब्बीर इब्राहिम कास्कर के रूप में लॉन्च कर रहे हैं।
    अश्वत ने कहा, फिल्म उनके जीवन पर विस्तार से छूती है। रुद्र ने कहा, फिल्म डी कंपनी के गठन के बारे में बात करती है। दाऊद और शाबिर के बॉन्ड और उनकी यात्रा को दिखाती है।
     आरजीवी ने फिल्म उद्योग में रियल भाइयों को पहली बार रील भाइयों की भूमिका निभाने के लिए रोप-अप करके एक तरह का कास्टिंग कूप बनाया है। भारतीय सिल्वर स्क्रीन पर डेब्यू  में रियल ब्रदर्स के बीच जबरदस्त केमिस्ट्री को देखने का अलग ही उत्साह रहेगा।
       राम गोपाल वर्मा कहते हैं, “मैं खुद अंडरवर्ल्ड विषय पर विभिन्न परियोजनाओं को बनाने में शामिल रहा हूं, लेकिन डी कंपनी बनाने में जो विस्तार और शोध हुआ है वह अद्वितीय है। डॉन दाऊद इब्राहिम और उसके भाई शब्बीर इब्राहिम कासकर के लिए मुख्य जोड़ी को निभाने के लिए सबसे आदर्श कास्टिंग की पहचान करना सबसे बड़ी चुनौती थी। लीड पेयर कास्टिंग की पहचान और शॉर्ट लिस्टिंग की प्रक्रिया के दौरान मैंने मेथड एक्टिंग ऑडिशन टेप्स को अपनाया। आज मैं गर्व के साथ कह सकता हूं कि मैंने और मेरी टीम ने अश्वत और उनके असली भाई रुद्र की जोड़ी के निर्णायक निर्णय के साथ एक तूफान खड़ा कर दिया है। अश्वत कंठ लगातार अपनी अभिनय साख को बेहतर बनाने के लिए कड़ी मेहनत करते रहे हैं। उन्हें एक के बाद एक शानदार प्रदर्शन कर अपने प्रशंसकों को हैरान किया है। यकीनन राम गोपाल वर्मा की यह फिल्म हिंदी फिल्म्स एंड एंटरटेनमेंट व्यवसाय में  अश्वत और रुद्र के कैरियर के लिए मील का पत्थर साबित होगी। डायरेक्टर राम गोपाल वर्मा ने डी कम्पनी की रिलीज से पहले एक बड़ा बयान देते हुए कहा है कि वो अपनी सफलता का श्रेय डॉन दाऊद इब्राहिम को देते हैं। जब राम गोपाल वर्मा से पूछा गया कि डी कम्पनी सच्चाई के कितनी करीब होगी ? तो उन्होंने बताया, ‘मैंने डी कम्पनी की कहानी इनसाइडर्स से मिली जानकारी के आधार पर बनाई है। साल 2002 में आई मेरी फिल्म दाऊद इब्राहिम और छोटा राजन की लड़ाई पर आधारित थी और इस बार भी मैं ऐसी ही सच्ची कहानी लेकर आ रहा हूं।' फिल्म हिंदी, तमिल, तेलुगु, मलयालम और कन्नड़ में रिलीज होगी।

सांगरी टाइम्स हिंदी न्यूज़ के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और टेलीग्राम पर जुड़ें .
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBEचैनल को विजिट करें