राजस्थान कांग्रेस में अभी तक नहीं हुईं राजनीतिक नियुक्तियां: गोपाल केसावत

जयपुर: राजस्थान (Rajasthan) में प्रदेश कांग्रेस कमेटी की कार्यकारिणी और राजनीतिक नियुक्तियों का इंतजार लगातार लंबा होता जा रहा है. करीब 4 महीने का वक्त हो गया है, राजस्थान में कांग्रेस बिना संगठन के ही काम कर रही है. 

इसके अलावा सरकार को 2 साल पूरे होने को हैं. पार्टी नेताओं-कार्यकर्ताओं को राजनीतिक नियुक्तियों में बड़े पदों की घोषणाओं का इंतजार है. इस लंबे इंतजार के चलते अब पीसीसी के निवर्तमान पदाधिकारियों और पार्टी के वरिष्ठ नेताओं का धैर्य जवाब देने लगा है. पार्टी के विभिन्न वर्गों की तरफ से अब जल्द संगठन का गठन करने और उचित प्रतिनिधित्व देने की मांग उठने लगी है. 

इसी इंतज़ार के चलते अब ओबीसी, मुस्लिम समाज और दलित वर्ग के नेताओं की ओर से पीसीसी की कार्यकारिणी जल्द गठन करने और उसमें समाज के नेताओं को प्रतिनिधित्व देने की मांग करने लगे हैं. पूर्व राज्य मंत्री गोपाल केसावत ने डीएनटी जातियों को राजनीतिक नियुक्तियां और पीसीसी की कार्यकारिणी में जगह देने की मांग की है. 

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा को लिखे पत्र में गोपाल केसावत ने बताया है कि पिछले 70 साल से घुमंतु अर्ध घुमंतु जातियां कांग्रेस की समर्थक रही हैं. राजस्थान में 60 लाख की संख्या में इन जातियों के किसी सदस्य को पिछले 7 साल में पीसीसी की टीम में कोई जगह नहीं दी गई है. राजनीतिक नियुक्तियों में भी ये जातियां हाशिए पर हैं. 

दरअसल, नए प्रदेश अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने प्रदेश से लेकर ब्लॉक स्तर तक कार्यकारिणी को भंग कर दिया गया था. उसके बाद प्रभारी अजय माकन ने प्रदेश के संभागों का दौरा शुरू किया. जयपुर और अजमेर के संभाग पर कार्यकर्ताओं से फीडबैक लेने के बाद माकन का आगामी कार्यक्रम नहीं बन पाया है. माकन ने सभी संभागों से फीडबैक लेने के बाद ही पीसीसी की नई टीम का ऐलान करने की घोषणा की थी. लिहाजा इंतजार कब खत्म होगा कहना मुनासिब नहीं है.c


सांगरी टाइम्स हिंदी न्यूज़ के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और टेलीग्राम पर जुड़ें .
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBEचैनल को विजिट करें