सरकारी विभाग के अधिकारी तय करते है:कौन जिंदा, कौन भूत!

सरकारी कारिंदों का कारनामा जीवित को बता दिया मुर्दा

कहते है कि किसी भी व्यक्ति का जीवन और मृत्यु सब उपर वाले के हाथ होता है लेकिन सरहदी जिले जैसलमेर के मोहनगढ़ नहरी इलाके में ऐसा नहीं है क्योंकि यहां पर सरकारी विभाग की मर्जी चलती है कि किसको जिंदा रखना है और किसे मारना है।ये सब यहां पर सरकारी विभाग के अधिकारी तय करते है।

उपनिवेशन विभाग द्वारा जिंदा महिला को मृत घोषित करने का मामला सामने आया है जहाँ नहरी भूमि आवंटन के लिए एक वृद्ध महिला का आवेदन पिछले लंबे समय से लंबित था। आवेदन में विभाग के अधिकारियों ने महिला को मृत घोषित कर उसकी फाइल को निरस्त कर दिया, लेकिन ये महिला जिंदा है और खुद सामने आकर कहने लगी कि मैं जिंदा हूं और मेरा जो आवेदन निरस्त किया गया है उसे बहाल कर मुझे न्याय दिलाएं।

मत मारो,जिंदा हूं साहेब!

मोहनगढ़ स्थित उपनिवेशन विभाग में एक ऐसा मामला सामने आया है जिसमें एक बुजुर्ग महिला मीरा का आवेदन यह कह कर निरस्त कर दिया गया कि उसकी मौत हो गई है. जिसके बाद उसकी फाईल को बंद करने की तैयारी की गई, लेकिन जागरूक किसानों की जागरूकता के चलते मामला बाहर आया और जब मीरां से पूछा गया तो इसने स्वीकार किया कि उसकी तरफ से नहरी भूमि आवंटन के लिए आवेदन किया गया है,जब इसे यह बताया कि आपका आवेदन इसलिये खारिज कर दिया गया है कि आपकी सरकारी कागजों में मौत हो चुकी है, तो महिला कहने लगी कि मैं तो जिंदा हूं. ऐसे में नहरी अधिकारी कैसे मुझे मरा घोषित कर सकते हैं।

न जाने कितने उतरे गंगा पार

इस मामले ने यह सवाल खड़ा कर दिया है कि अधिकारियों ने ऐसे कितने आवंटियों को मृत घोषित कर उनके आवेदन निरस्त किए हैं. वहीं, किसानों का आरोप है कि नहरी भूमि आवंटन प्रक्रिया में कई पात्र किसानों को अपात्र घोषित कर दलालों को भूमि आवंटित कर दी गई है।

दलालों की चाँदी का दौर जारी

इंदिरा गांधी नहर के आने के बाद जैसलमेर में इस इलाके में जमीनों की कीमतों में उछाल आया है और कृषि कार्य भी बढ़ा है लेकिन इस इलाके की जमीनों पर विभाग के कुछ अधिकारियों और कुंडली मार कर बैठे दलालों ने कई सारे किसानों के हक को छीनने का काम भी शुरू कर दिया है  इस पूरे मामले के सामने आने के बाद जब विभाग के अधिकारियों से बात करनी चाही तो बात करने से मना करते हुए गलती को ठीक करने की बात कही, ऐसे में जब अधिकारी खुद जिम्मेदारी लेने से भागने लगें है तो विभाग का भगवान ही मालिक है।

विश्वसनीय सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार जैसलमेर के नहरी क्षेत्र में दलालों की मिलिभगत के चलते आए दिन भोले-भाले लोगों को मुरब्बा आवंटन का झांसा देकर धनराशि बटोरी जा रही है।


सांगरी टाइम्स हिंदी न्यूज़ के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और टेलीग्राम पर जुड़ें .
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBEचैनल को विजिट करें