70 वर्षीय बुजुर्ग ने कोरोना को हराकर अन्य मरीजों का बढ़ाया मनोबल

हृदय व डायबिटीज मरीज़ भागीरथराम गोदारा ने आत्मविश्वास व सकारात्मक विचारों से जीती कोरोना से जंग, ग्रामीणों ने किया स्वागत

जालोर। जिले में चितलवाना ब्लॉक के पादरड़ी निवासी 70 वर्षीय भागीरथराम गोदारा ने महज सात दिन में कोरोना को मात देकर अन्य मरीजों के मनोबल को बढ़ाया है। भागीरथराम के हृदय की सर्जरी तीन वर्ष पूर्व हुई और पिछले 2 साल से डाइबिटीज के मरीज़ भी है। उन्होंने बताया कि कुछ दिन पूर्व बुखार आने पर निजी अस्पताल में दिखाने व सीटी स्कैन कराने पर फेफड़ों में कोरोना संक्रमण से प्रभावित के लक्षण दिखने पर चिकित्सकों की सलाह पर जोधपुर एम्स रेफर करने पर 22 सितंबर की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आने पर एम्स जोधपुर में आइसोलेशन किया गया लेकिन इस दौरान भागीरथराम ने साहस एवं आत्मविश्वास के साथ जंग लड़ते हुए कोरोना को मात दी। उन्होंने बताया कि कोरोना काफी खतरनाक बीमारी है इसको हल्के में लेना बड़ी भूल है। सरकार द्वारा जो एडवाइजरी बताई जा रही है उनकी पालना जरूर करें।

मन में कोरोना को लेकर डर भी था लेकिन हिम्मत रखी-
भागीरथराम ने बताया कि जब कोरोना कि रिपोर्ट पॉजिटिव आते ही मन में एक बार डर सताने लगा इसके बावजूद भी हिम्मत नहीं हार कर सकारात्मक सोच रखकर मात्र 7 दिन में ही कोरोना को हराकर गुरुवार शाम घर आया।

नियमित योग में चिकित्सकों की सलाह की पालना जरूरी-
भागीरथराम ने बताया कि कोरोना खतरनाक बीमारी है। इसको लेकर सावधानी बरतनी जरूरी है। उन्होंने बताया कि वे खुद कहां पर संक्रमित हो गए, इसका पता ही नहीं लगा इसलिए कोरोना के बचाव को लेकर सावधानियां रखनी जरूरी है। जोधपुर में भर्ती होने के बाद नियमित योग एवं चिकित्सकों की सलाह के अनुसार दवाई व गर्म पानी से कोरोना को मात दिया।
Attachments area

सांगरी टाइम्स हिंदी न्यूज़ के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और टेलीग्राम पर जुड़ें .
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBEचैनल को विजिट करें