कहने को ऑनलाइन सुविधा लेकिन आठ महीने बाद भी मृत्यु प्रमाण पत्र नहीं मिला



जालोर, मोदरान : देश में कहने को डिजिटल इंडिया और ऑनलाइन सेवा लेकिन कभी कभी प्रशासन की लापरवाही से ग्रामीणों को भुगतना पड रहा है । इस तरह का मामला जालोर जिले के रेवत ग्राम पंचायत के मोक गांव के दिलिप सिंह राजपुरोहित को अपने पिता के निधन पर देखने को मिल रहा है ।

जानकारी के अनुसार विगत आठ महीने पहले उनके पिता माधुसिंह पुत्र जवाहर सिंह जाती राजपुरोहित निवासी मौक ग्राम पंचायत रेवत का अपने गांव में ही आकस्मिक निधन हो गया था जिसकी सुचना निधन के दुसरे दिन ही ग्राम पंचायत मुख्यालय पर सरपंच व ग्राम विकास अधिकारी को पहुंचाने के बावजूद पिछले आठ महीनों से कई चक्कर काट दिया लेकिन अपने पिता के मृत्यु प्रणाम पत्र अभी तक नहीं प्राप्त हुआ जिस कारण उनको उनके अन्य कार्य व बैंक अकाउंट व जमीन ज्यादाद वगैरह की नॉमिनी अभी तक अपने परिवार के नाम नहीं करवा सका ।

देश में कहने को तो ऑनलाइन सेवा है लेकिन आठ महीने बाद में मृत्यु प्रमाण पत्र नहीं मिलना अपने आप में विचित्र मामला है । प्रार्थी दिलीप सिंह ने इस सम्बन्ध में राजस्थान सम्पर्क पोर्टल 181 पर भी शिक़ायत दर्ज करवाया लेकिन आठ महीने बित जाने बावजुद मृत्यु प्रणाम पत्र प्राप्त नहीं हुआ । दिलीप सिंह ने ऑनलाइन आवेदन पंजीकरण क्रमांक 811600158/20आर 2389927 भी आवेदन किया गया था ‌। इस संबंध में ज्यादा जानकारी के लिए ग्राम पंचायत रेवत के सरपंच व ग्राम विकास अधिकारी से संपर्क किया लेकिन कॉल रिसीव नहीं किया।


सांगरी टाइम्स हिंदी न्यूज़ के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और टेलीग्राम पर जुड़ें .
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBEचैनल को विजिट करें