मोदरान में अज्ञात लोगों ने नंदी के कुल्हाड़ी से वार किया ,नंदी को पशु चिकित्सालय पहुंचाया



जालोर/मोदरान। स्थानीय गांव में पिछले 3 दिनों से एक  बेचारा गौ वत्स नंदी के अज्ञात लोगों ने  कुल्हाड़ी से वार कर देने से बहुत खून बह रहा था उसको लेकर आज सुबह  जागरवाल युवा मंडल के वरिष्ठ कार्यकर्ता भरत सिंह जागरवाल व कुछ ग्रामीणों व कामधेनु सेना के कुछ लोगों ने उस नंदी गौ वत्स  को बड़ी मुश्किल के साथ पकड़ कर पशु चिकित्सालय ले जाकर इलाज करवाया और पशु चिकित्सक ड्रा दिपक जांगीड़  ने बताया की नंदी को ज्यादा गांव होने की वजह से भीनमाल  श्री गोपाल कृष्ण गौ शाला संस्थान में  पर्याप्त  चिकित्सा सुविधा होने की वजह से वहां पर से गौ रथ एम्बुलेंस की सहायता से वहां भीजवाया गया ।

मोदरान के ग्रामीणों ने बताया कि मोदरान में 3-3 गौशाला होने के बावजूद इस तरह सैकड़ों गोवा बेसहारा आवारा घूमते हैं दो किसी खेत खलिहान में घुस कर फसल चारा वगैरहा खा लेते है इस को लेकर कुछ किसान व असामाजिक तत्वों द्वारा गौ माता व गौ वत्स नंदी को कुल्हाड़ी व धारदार हथियार से मार देते है और कई बार जहर मिला कर लड्डू भी डाल देते है |

वहीं कई लोगों द्वारा इन बेचारा गौ वत्स को रेलवे लाइन पर चढा देने से पिछले एक महीने में करीब एक दर्जन से ज्यादा गौ माता व नंदी की मौत हो गई और इस से ज्यादा गौ माता व गौ वत्स को घायल अवस्था में गौ रथ एम्बुलेंस की सहायता से भीनमाल श्री गोपाल कृष्ण गौ शाला संस्थान के वहा पर ईलाज के लिए भेजा गया । इस मौके पर  गोपाल सिंह चम्पावत कामधेनु सेना ग्राम सचिव , मेवा राम सोलंकी ग्राम प्रभारी,  भरत सिंह राजपुरोहित वरिष्ठ समाजसेवी,  राजू सिंह राजपुरोहित , नैन सिंह , सुजानाराम देवासी , पांसाराम , पशु चिकित्सक डॉ दीपक जांगिड़,  भरत सिंह  राजपुरोहित,  कल्याण सिंह गमणौनी व जगमालसिंह राजपुरोहित आदी ने सराहनीय सहयोग कर पशु चिकित्सालय व  गौ शाला पहुंचा कर ईलाज करवाया ।

ग्रामीणों ने आक्रोशित होकर बताया कि मोदरान गांव  में श्री आशापुरी माताजी गौ शाला समिति, श्री खेतेश्वर गौशाला व जैन समाज की और से एक श्री शांतिनाथ जैन गौशाला चल रही है लेकिन इन गौशाला के प्रबंधकों की लापरवाही की वजह से सैकड़ों गौ वत्स पुरे दिन ईधर उधर घूमते रहते है और कई बार आपस में लड़ते हुए राह चलते लोगों को भी घायल कर देते है ।

ग्रामीणों की मांग है कि जिला प्रशासन बैचारा बाहर घूमने वाले सभी गौ वत्स नंदी और गायों को इन गौशालाओं में रख कर सेवा करना चाहिए वरना ऐसी गौ शाला नाम मात्र की रखने से अच्छा बंद कर देना चाहिए।


सांगरी टाइम्स हिंदी न्यूज़ के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और टेलीग्राम पर जुड़ें .
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBEचैनल को विजिट करें