कोरोना के बीच योग से लाभान्वित हो रहे युवा

जहां कोरोना जैसी वैश्विक महामारी में लोगों में नकारात्मक विचार हावी हो रहा है, वही बाबा परमानंद की तमोभूमि  लोसल कस्बे में योगगुरु प्रहलाद शर्मा के सानिध्य  पिछले कई दिनों से नियमित योगाभ्यास ऑक्सफोर्ड छात्रावास में  निःशुल्क कोविड नियमों की पालना के साथ करवा रहे है ।

योगगुरु प्रहलाद शर्मा ने बताया कि  योग एक ऐसी कला है जिसके जरिए शरीर और मन दोनों ही चु्स्त-दुरुस्त रहते हैं. योग करने से शरीर, मन और मस्तिष्क को पूर्ण रूप से स्वस्थ किया जा सकता है. आप किसी भी उम्र में योग करके स्वास्थ्यलाभ उठा सकते हैं| 

छात्रावास निदेशक महेश डूडी भीमा ने बताया कि आज के समाज में लोग योग को एक विशेष समुदाय, राजनीतिक दल विशेष और धर्म से जोड़कर देखते हैं. लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं है, योग आपके शरीर को स्वस्थ रखने का एक माध्यम मात्र है|

शिक्षक महावीर सिंह डाबड़ा ने बताया कि वर्तमान विश्व में ज्ञान-विज्ञान के संबंध में कहीं जाने वाली बहुत सी बातें ऐसी हैं, जिनके बारे में भारत में युगों पूर्व कहा जा चुका है। भारत में ज्ञान और विज्ञान की पराकाष्ठा थी, लेकिन यह हमारा दुर्भाग्य ही कहा जाएगा कि हम विदेशी चमक के मोहजाल में फंसकर अपने ज्ञान को संरक्षित नहीं कर सके। भारत की भूमि से विश्व को एक परिवार मानने का संदेश प्रवाहित होता रहा है, आज भी हो रहा है। यह अकाट्य सत्य है कि विश्व को शांति के मार्ग पर ले जाने का ज्ञान और दर्शन भारत के पास है। योग विधा ऐसी शक्ति है जिसके माध्यम से दुनिया को स्वस्थ और मजबूती प्रदान की जा सकती है।

हमारे मनीषियों ने बहुत पहले ही विश्व को स्वस्थ और मजबूत बनाने का संदेश दिया है। वर्तमान में भारतीय योग ने एक बार फिर अपनी महत्ता साबित की है और देश-समाज को कई गंभीर बीमारियों से बचाव करने में कामयाबी हासिल की है। दुनिया भर में योग कार्यक्रमों में बड़ी संख्या में भाग लेने वाले लोगों के मन में योग के बारे में अनुराग पैदा होना यह प्रमाणित करता है कि अब विश्व एक ऐसे मार्ग पर कदम बढ़ा चुका है, जिसका संबंध सीधे तौर पर व्यक्तिगत स्वास्थ्य से है।

मुकेश शेषमा, संतोष शेषमा, बलवीर शेषमा, कमल डूडी, मोहित, भवानी वर्मा, विकास ढाका, प्रदीप, यतेंद्रसिंह, मुकेश मुवाल आदि बताया की वो पिछले काफी दिनों से विभिन्न योग क्रिया करके लाभ ले रहे हैं जिससे उनकी दिनचर्या में काफी बदलाव देखने  को मिल रहे है और स्वास्थ्य लाभ मिल रहा है|

सांगरी टाइम्स हिंदी न्यूज़ के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और टेलीग्राम पर जुड़ें .
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBEचैनल को विजिट करें