अपनी राजनीति रोटियां सेंकने के लिए प्रवासियों को बदनाम मत करो

साथियो कुछ तथाकथित लोग अपनी राजनीति रोटियां सेंकने के लिए प्रवासी भाइयो को ढाल बना रहे है। और तरह तरह के संगठन व संस्था बनाकर देश के प्रधानमंत्री व केंद्र सरकार को पत्र लिखकर प्रवासियों को मारवाड़ लाने की मांग कर रहे है।एक तरह देशभर में फैल रहे कोरोना महामारी को रोकने के लिए दिनरात मेहनत कर रहे है और इसमें पूरा देश उनकी मदद करने के लिए उनकी गाइड लाइन के अनुसार घर मे बैठे है वही कुछ लोग उनकी मेहनत को नाकामियाब करने के लिए प्रवासियों को ढाल बनाकर मांग कर रहे है।आज मेरे खुद के परिवार से कई लोग प्रवास में बैठे है उसमें से ज्यादातर सदस्य ऐसे क्षेत्र में है जहाँ पर कोरोना पॉजिटिव मरीजो का हॉटस्पॉट घोषित हो चुका है। फिर भी वो लोग अपने घर मे रहने के लिए तैयार है।आज मेरे अकेले के सम्पर्क में 1 हजार युवा प्रवास में बैठे है और वो देशहित में वही रहने के लिए तैयार है।आपको जानकारी के लिए बता देना चाहता हूँ कि इस मुसीबत में हमारे मारवाड़ में जरूरतमंद लोगों के लिए जो राशन सामग्री का वितरण कर रहे है वो सब उन प्रवासियों की तरफ से है जो अन्य राज्य में बैठे है। और वो बाहर होते हुए भी जरूरतमंद लोगो की मदद कर रहे है। और आज अगर हमारे क्षेत्र में जितना भी विकास हुआ है वो सब उन प्रवासियों ने ही करवाया है और उनकी बदौलत ही आज हमारे क्षेत्र नाम आगे आ रहा है।मगर कुछ लोग है जो अपनी राजनीति करने के लिए उन प्रवासियों को बदनाम कर रहे है और कई तरह के टिकटॉक व अन्य तरह के वीडियो बनाकर उन प्रवासियों की इज्जत खराब कर रहे है। हमारे प्रवासी भाई हमेशा देशहित व राष्ट्र के लिए प्रथम पंक्ति में रहे है।वो हमेशा देश को आगे बढ़ाने के सारथी रहे है।प्रवासी देशहित के लिए 6 महीने तक संघर्ष कर सकते है। जब सुखदेव राजगुरु और भगतसिंह देश के लिए फाँसी पर लटक सकते है और हजारों क्रांतिकारी जैल में सालों तक रह सकते है तो हमारे प्रवासी भाई भी देश के लिए कैसी भी तकलीफ देखने के लिए तैयार है। आपसे निवेदन है कि अपनी राजनीति रोटियां सेकने के लिए एक देशहित प्रवासियों को बदनाम नही करे। अगर देश मुसीबत में है तो उसके लिए हर तकलीफ सहने को मेरे प्रवासी तैयार है। वो हमेशा देश व राज्य के साथ रहे है और आगे भी ऐसे ही रहेंगे। कुछ लोगो की वजह से पूरे प्रवासियों की हंसी नही उड़ाए।आज जिस भी शहर में हमारे मारवाड़ी बंधु रह रहे है उस क्षेत्र में गरीब व जरूरतमंद लोगों के लिए लाखों रुपये की मदद कर रहे है हर जगह खाने पीने व राशन सामग्री उपलब्ध करा रहे है।मगर कुछ राजनीति लोग कह रहे है कि हमारे प्रवासी भाई भूखे सो रहे है और उनके बच्चे व परिवार परेशान है।उनसे निवेदन करता हूँ कि आप इस तरह प्रवासी भाइयो को बदनाम नही करे वो बंद के दौरान भी अपने क्षेत्र के साथ मारवाड़ में भी लोगो का सहयोग कर रहे है वो हमेशा दानदाता रहे है।वो घर आना चाहते है क्योकि दुकाने बंद है और बच्चों के स्कूल की छुट्टीयो के कारण आना चाहते है मगर वो देश व अपने राज्य को संकट में डालकर नही आएंगे।वो हमेशा देश के साथ थे आगे भी रहेंगे और साथ है। जब देश की स्थिति ठीक होंगी तब वो अपने आप आ जाएंगे और उनको देश की सरकार पर भरोशा है।       

_x000D_ _x000D_

 
_x000D_   राजपुरोहित दिनेश हिराणी


सांगरी टाइम्स हिंदी न्यूज़ के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और टेलीग्राम पर जुड़ें .
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBEचैनल को विजिट करें