प्रशासन गांवों के संग अभियान चरम पर अभियान का लाभ अंतिम व्यक्ति तक पहुंचे


Advt
प्रशासन गांवों के संग अभियान चरम पर
अभियान का लाभ अंतिम व्यक्ति तक पहुंचे - वन एवं पर्यावरण मंत्री

वन एवं पर्यावरण मंत्री श्री हेमाराम चौधरी, विधायक श्री हरीश चौधरी तथा बाड़मेर जिला कलेक्टर श्री लोकबंधु ने शनिवार को प्रशासन गांवों के संग अभियान का निरीक्षण किया एवं सरकार की मंशा के अनुरूप अंतिम व्यक्ति तक अभियान का लाभ पहुंचाना सुनिश्चित करने की हिदायत दी।
   
वन मंत्री चौधरी ने शनिवार को बाड़मेर जिले के बायतु पंचायत समिति की हेमजी का तला पंचायत में लगे शिविर का जायजा लिया। इस अवसर पर वन मंत्री ने कहा कि अभियान की पूरी जिम्मेदारी इससे जुड़े सभी 22 विभागों के कंधों पर है। इसे समझते हुए प्रत्येक विभाग के अधिकारी पूर्ण गंभीरता तथा जिम्मेदारी से कार्य करें। उन्होंने कहा कि शिविर में प्राप्त अंतिम प्रकरण के नियम सम्मत निस्तारण तक अधिकारी शिविरों में बने रहें तथा राज्य सरकार की मंशा के अनुरूप अंतिम छोर तक बैठे व्यक्ति को राहत पहुंचाने की ततपरता दिखाएं। उन्होंने कहा कि अब शेष शिविरो में सभी विभाग युद्ध स्तर पर कार्य कर अधिकतम लोगो को लाभान्वित करें।
 
इस दौरान विधायक श्री हरीश चौधरी ने कहा कि शिविरों के दौरान अधिकारी यह सुनिश्चित करें कि कोई भी पात्र व्यक्ति सरकार की योजनाओं के लाभ से वंचित नहीं रहे। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने गत तीन वर्षों में आमजन के कल्याण के अनेक कदम उठाए हैं। यह शिविर भी इसी श्रृखला की एक कड़ी है। 

बाड़मेर जिला प्रमुख श्री महेंद्र चौधरी ने कहा कि पूर्व में मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत के नेतृत्व में राजस्थान निःशुल्क दवा और निःशुल्क जांच योजना लागू करने में देश का पहला राज्य था। अब मुख्यमंत्री की पहल पर चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना शुरू की गई है। इसके माध्यम से प्रत्येक परिवार को पांच लाख रूपए तक का कैशलेस स्वास्थ्य बीमा उपलब्ध करवाया जा रहा है।
            
जिला कलेक्टर श्री लोकबंधु ने कहा कि शिविरों के दौरान अधिकारी राज्य सरकार की कल्याणकारी योजनाओं के बारे में बताएं। उन्होंने कहा कि जो प्रकरण हाथों-हाथ निस्तारित नहीं हो पाएं, उन्हें फॉलो-अप कैम्प लगाकर निस्तारित किया जाएगा। इस दौरान मुख्य कार्यकारी अधिकारी मोहन दान रतनू समेत सभी विभागों के जिला स्तरीय अधिकारी एवं जन प्रतिनिधि मौजूद रहे।

Advt



सांगरी टाइम्स हिंदी न्यूज़ के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और टेलीग्राम पर जुड़ें .
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBEचैनल को विजिट करें