राजस्थान आवासन मण्डल की सभी बिल्डिंग बन रही हैं ग्रीन बिल्डिंग कॉन्सेप्ट पर



मण्डल ग्रीन बिल्डिंग कॉन्सेप्ट एडॉप्ट करने वाला राज्य का पहला सरकारी संस्थान
राजस्थान आवासन मण्डल की सभी बिल्डिंग बन रही हैं ग्रीन बिल्डिंग कॉन्सेप्ट पर

आवासन आयुक्त श्री पवन अरोड़ा ने बताया कि राजस्थान आवासन मण्डल द्वारा पर्यावरण सुधार और भविष्य की आवश्यकताओं को देखते हुए सभी निर्माणाधीन बहुमंजिला भवनों को ग्रीन बिल्डिंग कॉन्सेप्ट पर बनाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि प्रमुख रूप से विधायक आवास परियोजना, एआईएस रेजीडेंसी, कोचिंग हब और मुख्यमंत्री जन आवास योजना के तहत प्रताप नगर तथा इंदिरा गांधी नगर योजना में निर्माणाधीन बहुमंजिला भवनों को ग्रीन बिल्डिंग कॉन्सेप्ट पर बनाया जा रहा है।

श्री अरोडा मंगलवार को मण्डल मुख्यालय स्थित कॉन्फ्रेंस रूम में सीआईआई- आईजीबीसी (इंडियन ग्रीन बिल्डिंग काउंसिल) जयपुर और राजस्थान आवासन मण्डल के संयुक्त तत्वावधान में “ग्रीन बिल्डिंग कॉन्सेप्ट-वर्तमान की आवश्यकता” विषय पर आयोजित कार्यशाला को संबोधित कर रहे थे। उल्लेखनीय है कि आईजीबीसी, जयपुर चैप्टर के चैयरमैन श्री जैमनी ऑबेराय द्वारा ग्रीन बिल्डिंग कॉन्सेप्ट के सम्बंध में प्रस्तुतिकरण दिया गया। 

श्री अरोडा ने ग्रीन बिल्डिंग के फायदों के बारे में बताया कि इस कॉन्सेप्ट पर बिल्डिंग निर्माण से जलवायु परिवर्तन को रोकने में मदद मिलेगी और उपभोक्ताओं को कम कीमत पर किफायती आवास मिल सकेंगे। इसके साथ ही ऊर्जा और जल संरक्षण की वजह से भविष्य में पानी और बिजली पर किये जाने वाले व्यय भी कम हो सकेंगे। उन्होंने बताया कि ग्रीन बिल्डिंग कॉन्सेप्ट को जो भी संस्थान अपनाते हैं, उन्हें ज्यादा सम्मान और प्रतिष्ठा की दृष्टि से देखा जाता है।

उन्होंने बताया कि राजस्थान की गिनती देश के उन अग्रणी राज्यों में होती हैं, जहां ग्रीन बिल्डिंग को प्रोत्साहित करने के लिए अतिरिक्त एफएआर (बीएआर) दिया जाता है। राज्य सरकार द्वारा जो नये बिल्डिंग बायलॉज बनाए हुए हैं, उनमें ग्रीन बिल्डिंग को प्रोत्साहित करने के लिये अतिरिक्त एफएआर दिया जाने का प्रावधान है।

ये थे उपस्थित  

बैठक में मुख्य अभियंता श्री के.सी. मीणा, श्री जी.एस. बाघेला, अतिरिक्त मुख्य अभियंता श्री नत्थूराम, श्री संजय पूनियॉ, अतिरिक्त मुख्य नगर नियोजक श्री अनिल माथुर सहित मण्डल के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।


सांगरी टाइम्स हिंदी न्यूज़ के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और टेलीग्राम पर जुड़ें .
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBEचैनल को विजिट करें