विधि विशेषज्ञों ने लंबित पड़े मुकदमों के निस्तारण के लिए लोक अदालत को बताया श्रेष्ठ अवसर


Advt

राजस्व मंडल अध्यक्ष श्री राजेश्वर सिंह के निर्देशानुसार राजस्व मंडल में शनिवार को राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन हुआ। लोक अदालत में चार बेंचों के माध्यम से राजस्व मण्डल अधिकारी एवम अभिभाषक समुदाय की उत्साहपूर्वक भागीदारी से 165 प्रकरणों का निस्तारण सम्भव हो सका।
 
लोक अदालत के लिए गठित चार बेंचों में राजस्व मंडल न्यायिक अधिकारी श्री गणेश कुमार की बेंच में राजस्व मंडल सदस्य श्री हरिशंकर गोयल व राजस्व मामलों के जानकार व अधिवक्ता श्री ओंकार लाल दवे ने बतौर सदस्य सेवाएं दी।

बेंच संख्या दो में न्यायिक अधिकारी श्री अविनाश चौधरी के साथ राजस्व मंडल सदस्य श्री सुरेंद्र माहेश्वरी एवं अधिवक्ता व राजस्व मामलों के जानकार श्री जगदीश प्रसाद माथुर बतौर सदस्य मौजूद रहे। लोक अदालत के लिए गठित बेंच संख्या तीन में सेवानिवृत्त न्यायाधीश श्री हरिसिंह यू  आसनानी न्यायिक अधिकारी थे साथ ही राजस्व मंडल सदस्य श्री रामनिवास जाट व राजस्व मामलों के जानकार एवं अधिवक्ता श्री चंद्र प्रकाश शर्मा ने बतौर सदस्य सेवाएं दी। इसी प्रकार बेंच संख्या चार में सेवानिवृत्त अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश श्री जगदीश सिंह ने बतौर न्यायिक अधिकारी मौजूद रहे I

जिसमें राजस्व मंडल सदस्य श्री श्रवण कुमार बुनकर एवं राजस्व मामलों के जानकार व अधिवक्ता श्री जय कृष्ण पारीक ने बतौर सदस्य सेवाएं दी।  राजस्व मंडल में बैंचों के समक्ष प्रस्तुत होने वाले प्रकरणों में पक्षकारों के बीच प्री काउंसलिंग हेतु अधिवक्ता ज्योति पारीक, श्री जगदंबा प्रसाद माथुर एवं श्री सतबीर सिंह सिंदू व मण्डल कार्मिकों ने भी सराहनीय सहयोग दिया।

इससे पूर्व शनिवार सुबह मण्डल परिसर में  देवी सरस्वती की प्रतिमा के समक्ष दीप प्रज्वलन एवम माल्यार्पण कर लोक अदालत का विधिवत शुभारम्भ किया गया।  कार्यक्रम में सदस्य श्री हरिशंकर गोयल ने कहा कि लम्बे अरसे से अदालतों में विचाराधीन प्रकरणों के लिए लोक अदालतें श्रेष्ठ अवसर हैं। इन अवसरों के माध्यम से आमजन एवं साधारण किसानों को उनका वाजिब अधिकार दिलाने की दिशा में सकारात्मक प्रयास किये जाने की आवश्यकता है।

जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सचिव श्री रामपाल जाट ने कहा कि लोक अदालतें आम जन को त्वरित राहत प्रदान करने की दिशा में बेहतरीन अवसर है। इसमें व्यावहारिक द्वष्टिकोण अपनाकर  ऎसे आयोजनों की सफलता सम्भव है। वरिष्ठ अधिवक्ता श्री ओंकार लाल दवे ने लोक अदालतों के साथ-साथ न्यायालयों की नियमितता बनाये रखते हुए वादों के न्यूनीकरण पर जोर दिया।

कार्यक्रम में सभी बेंच अध्यक्ष, सदस्य, राजस्व मण्डल के निबन्धक श्री भँवर सिंह सांदू, राजस्व बार एसोसिएशन के अध्यक्ष श्री पुष्पेंद्र सिंह नरुका, वरिष्ठ अभिभाषक श्री ओपी भट्ट, श्री सीपी शर्मा, श्री मनीष पंड्या एएलआर श्री रामेश्वर सिंह लखावत सहित,मण्डल अधिकारी एवम अधिवक्तागण मौजूद थे।




Advt



सांगरी टाइम्स हिंदी न्यूज़ के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और टेलीग्राम पर जुड़ें .
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBEचैनल को विजिट करें