चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री ने समीक्षा बैठक में अधिकारियों को दिए निर्देश




चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री एवं कोटा जिला प्रभारी मंत्री श्री परसादी लाल मीणा ने कहा कि प्रदेश सरकार की फ्लैगशिप योजनाओं, विकास कार्यक्रमों को संवेदनशीलता के साथ कार्य करते हुए समयबद्ध रूप से पूर्ण किया जाना चाहिए जिससे आमजन को लोक कल्याण की योजनाओं का लाभ सुनिश्चित किया जा सकें। 

जिला प्रभारी मंत्री गुरूवार को कलेक्ट्रेट सभागार में जिला स्तरीय अधिकारियों की समीक्षा बैठक को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नेतृत्व में प्रदेश सरकार विभिन्न फ्लैगशिप योजनाओं एवं विकास कार्यक्रमों के माध्यम से जन-जन के कल्याण के लिए प्रतिबद्ध होकर कार्य कर रही हैं, कोटा जिले में बिजली, पानी, सड़क, राशन, दवा सहित समस्त आधारभूत आवश्यकताओं से संबंधित कार्य प्राथमिकता से पूर्ण किए जाने चाहिए और किसी भी प्रकार की कौताही नहीं होनी चाहिए। प्रभारी मंत्री ने बैठक में जिले में कोविड स्वास्थ्य मानकों की सख्ती से पालना के निर्देश प्रदान करते हुए कहा कि जो लोग फेस मास्क नहीं लगा रहे हैं एवं शादी समारोह में नियमों से अधिक एकत्रित होकर अवहेलना कर रहे हैं उन पर चालान बनाते हुए नियमानुसार कार्यवाही की जानी चाहिए। 

बैठक में जिला कलक्टर उज्ज्वल राठौड़ ने जिले में प्रदेश सरकार की फ्लैगशिप योजनाओं के तहत विभिन्न विभागों द्वारा किए जा रहे कार्यों का संक्षिप्त विवरण प्रस्तुत किया। इसी क्रम में विभिन्न विभागों के अधिकारियों ने विभागीय कार्यक्रम, लक्ष्य व प्रगति की विस्तृत रिपोर्ट प्रस्तुत की। सीएमएचओे डॉ. भूपेन्द्र सिंह तंवर ने बताया कि जिले में कोरोना महामारी के तहत कोविड वैक्सीनेशन की प्रथम डोज 96 प्रतिशत, द्वितीय डोज 88 प्रतिशत एवं 15 से 18 वर्ष के आयु वर्ग को 26 प्रतिशत डोज लगा दी गई हैं। इसी क्रम में दो केस ऑमीक्रान वेरिएंट के हैं जिनको होम आइसोलेशन में रखकर निगरानी की जा रही हैं और उनका स्वास्थ्य ठीक हैं। जिला अस्पताल सहित समस्त सीएचसी एवं पीएचसी स्तर पर ऑक्सीजन कन्सट्रेटर की उपलब्धता हैं एवं 11 ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट भी स्थापित किए गए हैं जिससे कोविड महामारी की रोकथाम में सहायता मिलेगी।

बैठक में जिला प्रभारी मंत्री ने कहा कि प्रशासन गांवों के संग अभियान के तहत खाद्य सुरक्षा योजना के तहत नाम जोड़ने व हटाने के आवेदन प्राप्त किए जाने थे जिससे पोर्टल खुलने पर पात्र लोगों के नाम जोड़े जा सकते थे। सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग उपनिदेशक मनोज मीणा ने बताया कि जिले में कोविड के तहत परिवार के मुखिया की मृत्यु होने पर राज्य सरकार की योजना के तहत 496 विधवाओं एवं 16 अनाथ बच्चों को मुआवजा राशि प्रदान की गई हैं। साथ ही पात्र वर्गों को सामाजिक सुरक्षा पेंशन व पालनहार योजना का लाभ प्रदान किया जा रहा हैं। प्रभारी मंत्री ने जिला कलक्टर को विकास अधिकारी व तहसीलदार की संयुक्त टीम गठित कर जिन पात्र लोगों को पेंशन नहीं मिल रही हैं उनका सर्वे करने के निर्देश दिए। 

सार्वजनिक निर्माण विभाग ने बजट घोषणा के तहत कालीसिंध नदी पर हाईलेवल ब्रिज की डीपीआर तैयार करने, मिसिंग लिंक व नॉनपेचेबल सड़कों के कार्य के संबंध में रिपोर्ट प्रस्तुत की। जिला प्रभारी मंत्री ने पीएचईडी के अधिकारियों को कहा कि कोटा जिले में चम्बल नदी का प्रवाह हैं ऎसे में क्षेत्र के लोगों को फ्लोराइड युक्त पेयजल की आपूर्ति नहीं की जानी चाहिए और मीठे पानी के पेयजल की आपूर्ति संबंधित क्षेत्रों में करने के लिए योजना के प्रस्ताव तैयार कर भिजवाना सुनिश्चित करें। 

जिला प्रभारी मंत्री ने शुद्ध के लिये युद्ध अभियान के तहत नमूनों की संख्या बढ़ाने, सीएम युवा सम्बल योजना के तहत बेरोजगारों को इन्टर्नशिप करवाने, सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजनाओं का लाभ सुनिश्चित करने, इन्दिरा गांधी शहरी क्रेडिट योजना के तहत पात्र वर्ग को लाभ देने सहित प्रदेश सरकार की फ्लैगशिप योजनाओं के कार्य समयबद्ध रूप से पूर्ण करने के लिए निर्देश दिए। इस मौके पर जिला प्रभारी मंत्री ने डीओआईटी विभाग द्वारा तैयार जिले की नई वेबसाइट का शुभारम्भ किया साथ ही जिला पर्यावरण प्लान की पुस्तिका का विमोचन किया। उन्होंने जिले में वृद्धाश्रम एवं दो अन्य संस्थाओं के लिए एलईडी टीवी भी प्रदान किए। 

इस अवसर पर यूआईटी के पूर्व अध्यक्ष रविन्द्र त्यागी, समाजसेवी अमित धारीवाल, लाड़पुरा प्रधान नईमुद्दीन गुड्डू, कोटा पुलिस अधीक्षक शहर केसर सिंह शेखावत, ग्रामीण कावेन्द्र सिंह सागर सहित विभिन्न विभागों के अधिकारीगण उपस्थित रहे।


सांगरी टाइम्स हिंदी न्यूज़ के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और टेलीग्राम पर जुड़ें .
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBEचैनल को विजिट करें