बाड़मेर जिले में विकास के नए आयाम स्थापित होंगे - चौधरी

राज्य सरकार के कार्यकाल के दो वर्ष पूर्ण

बाड़मेर। राज्य सरकार के कार्यकाल के दो वर्ष पूर्ण होने के अवसर पर राजस्व, उप निवेशन, कृषि सिंचित क्षेत्रीय विकास एवं जल उपयोगिता मंत्री हरीश चौधरी तथा वन एवं पर्यावरण राज्यमंत्री तथा जिले के प्रभारी मंत्री सुखराम विश्नोई के द्वारा शनिवार को कलेक्ट्रेट कांफ्रेन्स हॉल में जिला स्तरीय अधिकारियों की समीक्षा बैठक आयोजित की गई। इस दौरान राज्य सरकार की दो वर्ष की उपलब्धियों एवं विकास कार्यो पर विस्तृत चर्चा की गई एवं आगामी समय में जन सेवा के लिए तत्पर रहने का संकल्प किया गया।

इस मौके पर राजस्व मंत्री हरीश चौधरी ने कहा कि कोविड- 19 की परिस्थितियों के बावजूद प्रदेश में विकास नहीं रूका है। रिफाईनरी का कार्य तीव्र गति से चल रहा है। राज्य सरकार का लक्ष्य एवं प्राथमिकता है कि रिफाईनरी का कार्य निर्धारित समयावधि में पूरा हो तथा लोगों को स्थाई रोजगार के अवसर मिले। 

राजस्व मंत्री ने कहा कि समय एवं तकनीकी के साथ-साथ आधुनिक सुविधाओं का सद्पयोग जन सेवा तथा गरीब के दुख दर्द दूर करने में किया जाना चाहिए। उन्होने अधिकारियों को जन प्रतिनिधियों से वर्चुअल रूप से सम्पर्क बनाने तथा वाट्सएप आदि के जरिए समस्या समाधान एवं त्वरित प्रतिक्रिया के निर्देश दिए। उन्होने आधुनिकतम संचार साधनों का प्रयोग करते हुए बेहतर परिणाम के लिए तत्परता के निर्देश दिए। राजस्व मंत्री ने पानी, बिजली, सड़क, चिकित्सा आदि कार्यो में गुणवता के साथ समझौता नहीं करने को कहा। चौधरी ने नव निर्वाचित पंचायतीराज जन प्रतिनिधियों को बधाई देते हुए ग्रामीण विकास योजनाओं में कड़ी से कड़ी मिलाकर बाड़मेर जिले को आदर्श बनाने का आह्वान किया।

इस अवसर पर जिले के प्रभारी तथा वन एवं पर्यावरण मंत्री ने कहा कि राज्य सरकार जन सेवा को सर्वोच्च प्राथमिकता रखते हुए आम जन के कार्याें के प्रति तत्पर है। उन्होने कहा कि माननीय मुख्यमंत्री के निर्देशों के अनुरूप प्रतिमाह जिले की समीक्षा बैठक आयोजित की जाएगी एवं फ्लैगशिप योजनाओं की विस्तृत चर्चा की जाएगी। उन्होने कहा कि बाड़मेर जिला विस्तृत भू भाग में फैला हुआ है इसलिए यहां पर कार्यरत अधिकारियों को अधिक ऊर्जा के साथ कार्य करने की आवश्यकता है। उन्होने निर्देश दिए कि अधिकारी जन सेवाओं की प्रदायगी के लिए धरातल पर अधिक कार्य करें एवं शनिवार, रविवार तथा राजकीय अवकाश के दिनों का उपयोग क्षेत्र भ्रमण में करें। 

इस दौरान जिले के प्रभारी सचिव तथा संभागीय आयुक्त डॉ. राजेश शर्मा ने कहा कि कोविड-19 के प्रति किसी भी प्रकार की लापरवाही नहीं बरती जाए तथा वर्तमान सर्दी के समय में अत्यधिक सावधानी के साथ बचाव के उपाय किए जाए। उन्होने पोस्ट कोविड प्रबन्धन को भी प्राथमिकता के निर्देश दिए। प्रभारी सचिव ने बजट घोषणाओं को प्राथमिकता देते हुए अधिकारियों को जन प्रतिनिधियों से सतत् समन्वय कायम रखने की हिदायत दी।

इससे पूर्व विधायक मेवाराम जैन ने पानी, बिजली तथा चिकित्सा हालात से अवगत कराते हुए कहा कि नवगठित पंचायतों तथा पंचायत समितियों में मानव संसाधनों का बंटवाड़ा तुरन्त कर उन्हें क्रियाशील किया जाए ताकि ग्रामीण विकास के कार्य प्राथमिकता से पूर्ण हो सकें। विधायक पदमाराम मेघवाल ने नर्मदा पेयजल परियोजना के कार्यो में तत्परता लाने को कहा। वहीं विधायक मदन प्रजापत ने चिकित्सा केन्द्रों का निर्माण शीध्रता से करने की आवश्यकता जताई। जिला प्रमुख महेन्द्र चौधरी ने ग्रामीण सड़कों तथा सभी प्रधानों एवं समाजसेवी फतेह खां ने अपने क्षेत्र की समस्याओं से अवगत कराया। 

जिला कलक्टर विश्राम मीणा ने फ्लैगशिप योजनाओं की प्रगति से अवगत कराया। बैठक में पुलिस अधीक्षक आनन्द शर्मा, उप वन संरक्षक संजय प्रकाश भादू, मुख्य कार्यकारी अधिकारी मोहनदान रतनू, अतिरिक्त जिला कलक्टर ओम प्रकाश विश्नोई समेत विभिन्न विभागों के जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद थे।

सांगरी टाइम्स हिंदी न्यूज़ के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और टेलीग्राम पर जुड़ें .
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBEचैनल को विजिट करें