वेटलैण्ड को संरक्षित रखने के लिए अधिकारी प्रतिबद्वता से कार्य करें- वन एवं पर्यावरण मंत्री


Advt

वन एवं पर्यावरण मंत्री हेमाराम चौधरी ने अधिकारियों को वेटलैण्ड (आद्र्रभूमि) को संरक्षित रखने के लिए प्रतिबद्वता से कार्य करने के निर्देश दिए है। चौधरी मंगलवार को यहाँ सचिवालय स्थित कान्फ्रेन्स हॉल में स्टेट वेटलैण्ड ऑथिरिटी की चतुर्थ बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे।  चौधरी ने कहा कि जिला कलक्टर व संबंधित विभागों को संयुक्त रूप से प्रयास कर वेटलैण्डस् का संरक्षण करना चाहिए। उन्होंने कहा कि इस सम्बन्ध में जो भी जिम्मेदारी दी गई है, उसी के अनुरूप अधिकारी प्रतिबद्वता से वेटलैण्ड की भूमि को सुरक्षित रखें और अतिक्रमण ना होने दें। उन्होंने जिला कलक्टर्स को वेटलैण्डस् के शीध्र चयन पर कार्य करने के निर्देश भी प्रदान किए है।

बैठक में सांभर झील क्षेत्र में डेडीकेटेड रेल्वे ट्रेक के निर्माण, राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण के ओ ए 351/2019 में दिए गए निर्देशों की पालना एवं वर्ष 2022-23 की वार्षिक योजना सहित अन्य प्रस्तावों पर भी विस्तारपूर्वक चर्चा कर अनुमोदन किया गया।  बैठक में मुख्य सचिव उषा शर्मा के अलावा ऑथिरिटी के सदस्य व संबंधित विभागों के उच्च अधिकारी भी उपस्थित थे। इस अवसर पर मुख्य सचिव व वन एवं पर्यावरण मंत्री ने स्टेट वेटलैण्ड ऑथिरिटी के ‘‘लोगो‘‘ का विमोचन भी किया।

इस अवसर पर वन एवं पर्यावरण विभाग की प्रमुख शासन सचिव श्रीमती श्रेया गुहा ने विगत बैठक में लिए गए निर्देशों पर की गई कार्य प्रगति से वन मंत्री को अवगत कराया। गुहा ने कहा कि सांभर लेक मेनेजमेंट एजेंसी इस तरह की देश की तीसरी एजेंसी है और यह राज्य के लिए बहुत महत्वपूर्ण उपलब्धि है। उन्होंने बताया कि इस वर्ष वेटलैण्ड डे भी मनाया गया जिसमें बच्चों को वेटलैण्ड के बारें में जागरूक किया गया।


Advt



सांगरी टाइम्स हिंदी न्यूज़ के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और टेलीग्राम पर जुड़ें .
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBEचैनल को विजिट करें