लोकतंत्र में वोट की ताकत से ही अधिकारों की प्राप्ति और हितों की रक्षा संभव -खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री

जयपुर।  खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री  रमेशचंद मीणा ने रविवार को इन्दिरा गांधी पंचायती राज संस्थान में आयोजित अखिल राजस्थान अनुसूचित जाति, जनजाति, पिछड़ी जाति अधिकारी कर्मचारी संयुक्त महासंघ के प्रान्तीय सम्मेलन और शपथ ग्रहण समारोह को सम्बोधित करते हुए कहा कि लोकतंत्र में वोट की ताकत है, यदि आप अपने अधिकारों को प्राप्त करना चाहते हैं , अपने हितों की रक्षा करना चाहते हैं तो अपने मताधिकार का प्रयोग करके ही ऎसा कर सकते हैं। शिक्षा और वोट की ताकत से ही वंचित वर्ग का विकास संभव है। खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री ने कहा कि विकास के लिए हमें सर्व समाज को साथ लेकर आगे बढ़ना होगा, जो हमसे आगे हैं उनसे हमें सीखना होगा।  उन्होंने कहा कि वंचित समाज को आगे बढ़ने के लिए शिक्षित होना होगा, उन्हें गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्राप्त करनी होगी। महिला शिक्षा को बढ़ावा देना होगा, अपने आस-पास के लोगों के विकास में सहयोग करना होगा। उन्होंने कहा कि हमें संकल्प और सिद्धान्त के साथ आगे बढ़ना होगा उन्होंने यह भी कहा कि आगे बढ़ने के लिए ईमानदारी जरूरी है। गरीब आदमी की मदद करने का हम सभी को संकल्प लेना होगा तभी समाज में परिवर्तन होगा, विकास होगा। इससे पहले शपथग्रहण समारोह के मुख्य अतिथि खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री  रमेश चंद मीना ने डॉ. भीमराव अम्बेड़कर के चित्र के सामने दीप प्रज्वलित कर एवं पुष्प अर्पित कर विधिवत शुभारम्भ किया। उन्होंने अखिल राजस्थान अनुसूचित जाति, जनजाति, पिछड़ी जाति अधिकारी कर्मचारी संयुक्त महासंघ के प्रदेशाध्यक्ष  अशोक सामरिया, वरिष्ठ उपाध्यक्ष  धर्मपाल मीना, महासचिव  रविशंकर बंजारा तथा कोषाध्यक्ष  जगदीश मीना सहित अन्य पदाधिकारियों को शपथ दिलवाई। महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष  अशोक समारिया ने बताया कि मुख्य उद्देश्य आरक्षित वर्ग के अधिकारियों, कर्मचारियों के सामाजिक, आर्थिक एवं शैक्षणिक उन्नति के प्रयास करना। इसके अलावा राज्य / केंद्र सरकार द्वारा बनाए गए नियमों/ उपनियमों की जानकारी समस्त सदस्यों तक पहुंचाना है। इसके साथ ही आरक्षित वर्ग के हितकर कानूनों का समर्थन करना तथा अहितकर कानूनों का विरोध करना। राज्य / केंद्र सरकार द्वारा निर्धारित आरक्षण का लाभ संपूर्ण आरक्षित वर्ग को दिलाना, पदोन्नति में आरक्षण में आ रही बाधाओं को दूर करना, रोस्टर बिंदुओं के आधार पर आरक्षण कोटा पूरा करवाना एवं सदस्यों को लाभ दिलाना है। इस अवसर पर विधायक  रामनारायण मीणा तथा विधायक  रूपाराम धनदेव ने भी अपने सम्बोधन में शिक्षित और संगठित होकर विकास की ओर अग्रसर होने पर बल दिया। मंच संचालन कर्ता  राजकुमार इन्द्रेश ने बताया कि संयुक्त महासंघ राजस्थान प्रदेश में राज्य सरकार व केंद्र सरकार के समस्त विभागों में कार्यरत अधिकारी, कर्मचारियों के हितों की रक्षा के लिए कार्य कर रहा है। उन्होंने बताया कि एक चुनाव समिति का गठन कर पदाधिकारियों का चुनाव करवाया गया। चुनाव अधिकारी  जे पी विमल, आईएएस (से.नि) सहायक चुनाव अधिकारी मुकेश मीणा (एफएसएल) के निर्देशन में महासंघ के चुनाव 30 जून,  2019 को संपन्न हुए। जिसमें   अशोक सामरिया निर्विरोध प्रदेश अध्यक्ष चुने गए। महासंघ की प्रदेश, संभाग, जिला व तहसील स्तर पर कार्यकारिणी काम कर रही हैं। महासंघ का संक्षिप्त नाम हिंदी में आरक्षित वर्ग संयुक्त महासंघ तथा अंग्रेजी में ज्वाइंट ऑर्गेनाइजेशन ऑफ रिजर्वज्ड क्लास है। इस अवसर पर आई.ए.एस.अधिकारी  पी.सी. बेरवाल, सेवानिवृत्त आई.ए.एस. एम.एस काला, सेवा निवृत्त आरपीएस  अनिल गोठवाल,  हरसहाय मीणा,  बलवीर सिंह, चेतन  चौहान,  भवी मीणा, राजस्थान विश्वविद्यालय की छात्रसंघ अध्यक्ष पूजा वर्मा सहित अनुसूचित जाति, जनजाति, पिछड़ी जाति अधिकारी कर्मचारी उपस्थित रहे। प्रेरणादायक गीतों ने भी श्रोताओं को स्फूर्त किया।
 

Sangri Times News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें.

Related Articles