क्राफ्ट मेले से ग्रामीण महिलाओं को अपनी प्रतिभाओं को निखारने का अवसर मिलेगा -उप मुख्य मंत्री

 


जयपुर । उप मुख्यमंत्री  सचिन पायलट ने सोमवार को जवाहर कला केन्द्र परिसर में राजस्थान ग्रामीण आजीविका विकास परिषद (राजीविका) एवं पंचायती राज विभाग द्वारा ग्रामीण विकास मंत्रालय भारत सरकार के सहयोग से आयोजित 11 दिवसीय जयपुर सरस राष्ट्रीय क्राफ्ट मेला-2019 का दीप प्रज्जवलित कर उद्घाटन किया। उद्घाटन उपरान्त मेले में देश के विभिन्न राज्यों के महिला स्वंय सहायता समूहों की स्टॉल्स का अवलोकन करने के पश्चात  पायलट ने कहा कि मेले के आयोजन से ग्रामीण क्षेत्र की महिलाओं को अपनी छुपी हुई प्रतिभाओं को निखारने का अवसर मिलेगा । पायलट ने कहा इस प्रकार के हस्तशिल्प मेले में उनके द्वारा तैयार उत्पादोें को लाकर बिक्री करने से उन्हें आर्थिक सम्बल मिलेगा ।  राजीविका के अधिकारियों को मेले के कुशल आयोजन के लिए बधाई देते हुए उन्होंने कहा कि इस प्रकार के मेलों से देश व प्रदेश की महिलाओं का आथ्रिक एवं सामाजिक रूप से सशक्तिकरण होगा साथ ही वे अपने जीवन को बेहत्तर बना सकेगीं । अतिरिक्त मुख्य सचिव, ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज एवं स्टेट मिशन हैड राजीविका  राजेश्वर सिंह ने कहा कि इस मेले में राजीविका के तहत प्रदेश भर में संचालित महिला स्वंय सहायता समूहों के द्वारा हस्तशिल्प, हस्तकला एवं अन्य घरेलू उपयोग के उत्पादों को तैयार करने में निपुणता हासिल है व जो उत्पाद देश-विदेश में अपनी विशिष्ट पहचान रखते हैं, विक्रय के लिये वाजिब दामों पर उपलब्ध करवाये गये हैें ।  सिंह ने जयपुर वासियों से अपील की है कि वे मेले में अधिक से अधिक संख्या में आकर श्रमजीवी महिलाओं द्वारा प्रदर्शित उत्पादों की खरीददारी कर उनका मनोबल बढ़ायें । उन्होंने बताया कि क्राफ्ट मेले में प्रदेश के साथ देश के विभिन्न अंचलों से आयी महिला स्वयं सहायता समूहों ने विभिन्न कलात्मक उत्पादों में उड़ीसा की सबई हस्तकला, आन्ध्र प्रदेश की बकरी के चमड़े का सामान, आसाम की जल कुम्भी से निर्मित विभिन्न आकर्षक बैग, टोपीयां, मणिपुर का कौना, उत्तर प्रदेश के पायदान, कॉंच की मूर्तियां, ट्राईब्स इण्डिया के जैविक खाद्य पदार्था जूट,  महिला पोषाकें, शहद, ब्लैक पोट्री, चमड़े की कसीदाकारी की हुई जूतियां व चप्पल, शुभ कार्य में काम में आने वाली सामग्री, मिट्टी व लोहे के बर्तन, बंधेज की पोषाकें, चूड़ियां, जैविक साबुन, बीकानेरी नमकीन, कैर-सांगरी, अचार, पापड़, काचरी, नागौरी मेथी, मसाले, सौर ऊर्जा की लाईटें, टेबल लेम्प, दरियां, तीर कमान आदि अनेक घरेलू उपयोग की सामग्री उपलब्ध है । मेले में लोगों की सुविधाओं के लिए राजस्थान मरूधरा ग्रामीण बैंक का एटीएम, मेले में आने वाले बालक-बालिकाओं के लिए अप्पू घर, व प्रतिदिन सांयकाल सांस्कृतिक कार्यक्रम 9 अक्टूबर तक आकर्षण का केन्द्र रहेगें । मेला आमजन के लिए प्रातः 11 बजे से रात्रि 10 बजे तक खुला रहेगा। मेले में प्रवेश  निः शुल्क है। मेले के उद्घाटन के मौके पर परिवहन मंत्री  प्रताप सिंह खाचरियावास, शिक्षा राज्य मंत्री  गोविन्द सिंह डोटासरा, विशिष्ट शासन सचिव, ग्रामीण विकास  के0सी0 मीणा, अतिरिक्त आयुक्त मनरेगा  विश्राम मीणा, राज्य परियोजना प्रबन्धक  महेश नारायण शर्मा, के0एम0 नूरदीन, डॉ0 शमिला मल्होत्रा, स्टेट नोडल ऑफिसर  जयपाल सिंह मेड़तिया सहित राजीविका के अनेक अधिकारी सहित अनेक गणमान्य नागरिक उपस्थित थे। मेले के उद्घाटन के पश्चात गुलाबी नगर वासियों ने राजस्थानी सांस्कृतिक संध्या का आनंद उठाया ।

  
 

Sangri Times News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें.

Related Articles