अपने काम से करूंगा सबको मेरा नाम गूगल करने को मजबूर :- अनवरुल हसन - Sangri Times

SPORTS

अपने काम से करूंगा सबको मेरा नाम गूगल करने को मजबूर :- अनवरुल हसन

-- धीरे धीरे मेन स्ट्रीम सिनेमा में बना रहे अपनी पहचान।

 

जिस दिन मैंने मेरी फैमिली को वो पल दे दिया जब सबको मुझ पर प्राउड फील हो उस दिन लगेगा के अब मुझे सच में जन्नत नसीब हो गयी है। मेरे व मेरे सपनों के लिए मेरी फैमिली ने बहुत सैक्रिफाइस किये हैं। यह कहना है राजस्थान के सबसे छोटे जिले धौलपुर के बाड़ी निवासी एक्टर अनवरुल हसन का। जो जल्द ही आपको छोटे परदे के साथ साथ बड़े परदे पर अपनी अभिनय कला का प्रर्दशन करते नजर आएंगे। अनवरुल ने बताया की वह बेसिकली बाड़ी के रहने वाले हैं। उन्होंने अपनी स्टडी धौलपुर से कम्पलीट की है। इसके बाद जयपुर से शुरूआती डांस व एक्टिंग कौशल सीखकर मुंबई शिफ्ट हो गया। अनवरूल अपनी इंस्पिरेशन व आइडल अपने बड़े भाई मोहसिन को मानते हैं। अनवरूल ने बताया की उनको फ्री टाइम में डांस करना, म्यूजिक सुनना, जिम करना, ट्रेवल करना, शॉपिंग करना, क्रिकेट व बैडमिंटन खेलना, नई चीजों को एक्स्प्लोर करना, नए दोस्त बनाना काफी पसन्द है। अपनी स्पेशल क्वालिटी के बारे में उन्होंने बताया की मुझे हर काम टाइम पर व परफेक्शन के साथ में करना पसंद है। या तो मैं कोई काम करता नहीं और करता हूँ तो उसे पूरा करके ही दम लेता हूँ। शुरू से ही काम को लेकर लॉयल, पॉजिटिव एंड कॉन्फिडेंट रहना पसंद है।

इस तरह हुई सफर की शुरुआत :- 

अनवरुल ने बताया की उन्हें बचपन से ही डांस व एक्टिंग का बहुत ज्यादा शौक था और बॉलीवुड इंडस्ट्री में करियर बनाने की शुरू से ही ठान ली थी। मुझे डांस करने के दौरान इस बात का एहसास हुआ की खुद को अगर अच्छे से पॉलिश करूं तो एक बेहतर एक्टर भी बन सकता हूँ, फिर चाहे एन्ट्री डांस के जरिए हो या एक्टिंग के रूप में। 2011 में डीआईडी का ऑडिशन दिया था जिसमें रिजेक्शन का सामना करना पड़ा।उसके बाद एक्टिंग में चार साल खत्म किए। साथ ही सिनेलान्जा फिल्म व नमित कपूर एक्टिंग स्कूल मुम्बई से डिप्लोमा कर एक्टिंग का ज्ञान प्राप्त किया। 2 साल से ज्यादा थिएटर भी किया। एक बेहतर इंसान कैसे बना जाता है यह मुझे एक्टिंग ने सिखाया है।

कुछ ऐसा चला संघर्ष का दौर :-

अनवरुल ने बताया की एक वक़्त था जब कुछ भी सही नही चल रहा था मैं बहुत बिगड़ चुका था। मैं ना तो किसी की सुनता था और ना ही किसी की बात मानता था। एक बार एक्सीडेंट में फेस पूरा खराब हो चुका था, लगा की अब तो कुछ भी नहीं हो सकता। मुंबई आने के बाद में काफी टाइम तक फाइनेंसियल प्रॉब्लम को फेस किया व कई और उतार चढ़ाव भी देखे। संघर्षों के दिनों में बड़े भाई मोहसिन खान की गाइडेंस काफी काम आई उन्होंने हर मोड़ पर समझाया, संभाला। साथ ही माँ की दुआओं के असर ने मुझे और मजबूत किया। वहीं दोस्तों का भरपूर सपोर्ट और प्यार मिला। अनवरूल ने अब तक कई शार्ट फिल्म्स, कमर्शियल ऐड फिल्म्स, डाक्यूमेंट्री की है। इसके साथ ही उन्होंने जयपुर के रविन्द्र मंच और मुंबई के पृथ्वी थिएटर में प्ले कर अपनी अभिनय कला को निखारा है। अनवरूल ने बताया की उनका डेब्यू मूवी एक कहानी से हुआ था। फ्यूचर में आने वाले प्रोजेक्ट्स के बारे में बताया की उन्होंने जल्द ही इसी साल स्टार प्लस, सोनी व कलर्स चैनल पर बतौर एक्टर एक सीरियल लॉन्च होने वाला है। जिसको लेकर वह काफी एक्साइटेड हैं। इंडस्ट्री में आने वाले न्यू कमर्स को यही कहना चाहता हूँ की शुरूआती लेवल से ही ट्रेनिंग बहुत जरुरी है। जब भी इस लाइन में एंटर करें पूरा प्रिपेयर होकर आएं। लाइफ में कभी भी किसी भी काम में शॉर्टकट ना लें अपने आप व मेहनत पर भरोसा रखें। अनवरूल का फ्यूचर ड्रीम एक सक्सेसफुल एक्टर बनना और फिल्म इंडस्ट्री में खुद को अच्छे से सेटअप करना है।

Sangri Times News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें.