सामाजिक संस्था न्यू आशा की ई किरण ने उठाया जनता को परोसे जा रहे... - Sangri Times

SPORTS

सामाजिक संस्था न्यू आशा की ई किरण ने उठाया जनता को परोसे जा रहे महंगे बिजली के बिलों का मुद्दा

आम जनता से जुड़े इस मुद्दे पर सोशल एनजीओ न्यू आशा की किरण संस्था के फाउंडर विजय कुमावत व उमेश कुमावत ने अपने फाउंडेशन के माध्यम से आवाज उठाई है। उनका कहना हैं कि सरकार का यह तरीका बिल्कुल गलत है। जिस तरीके से महंगे बिल भेजकर जनता से पैसे वसूले जा रहे हैं उनसे जनता तिरस्त है व रोष में है।

विजय कुमावत व उमेश कुमावत का कहना है कि इस लॉकडाउन में आर्थिक तंगी से आम इंसान परेशान है ऊपर से ये लाइट का बिल राजस्थान सरकार अपने मनपसंद तरीके से भेज रही है जो कि बहुत ही निंदनीय है। इस कोरोना महामारी के कारण एक तरफ़ जहाँ लोगों के पास नौकरियां नहीं हैं, लोगों के पास घर का राशन चलाने के लिए पैसे नहीं हैं, ऐसी विपरीत स्थिति में बिजली विभाग के द्वारा अवमान्य बिजली के बिल धड़ले से वसूलें जा रहें हैं। 

उन्होंने आगे बताया कि पहले सरकार द्वारा लाइट का बिल 2 महीने से आता था फिर सरकार ने उसे 1 महीने से कर दिया यहाँ तक तो चलता था, परन्तु अब तो सरकार की और बिज़ली विभाग की हद हो गयी है। बिजली विभाग द्वारा 20 दिन के बिजली के बिल सितंबर माह में दे दिया गया। बिजली विभाग द्वारा मार्च माह से लगातार स्थाई शुल्क को हर महीने में 2 -2 बार वसूला जा रहा हैं। बिजली विभाग के द्वारा जून माह में बिजली के बकाया बिल को 31 जून तक चुकाने पर 5 % डिस्काउंट देने का वादा किया गया था, जो की अभी तक किसी भी आमजान को नहीं दिया गया है। इस विपरीत परिस्थिति में लोग अपने घर नहीं चला पा रहें हैं फिर भी वे सरकार के सभी प्रकार क़े टैक्स भर रहे हैं। सरकार से आमजान एवं न्यू आशा की ई-किरण सँस्था की विनम्र अपील है की इस मुद्दे पर गंभीरता से सोचे और आमजान को राहत दे।

Sangri Times News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें.

loading...