सन्दर्भ व्यक्ति ग्रामवासियों को दो गड्ढ़ों वाले शौचालयों के निर्माण... - Sangri Times

SPORTS

सन्दर्भ व्यक्ति ग्रामवासियों को दो गड्ढ़ों वाले शौचालयों के निर्माण के लिए प्रेरित करें - निदेशक स्वच्छ भारत मिशन

 

जयपुर। निदेशक स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण)  पी. सी. किशन ने सन्दर्भित व्यक्तियों को आव्हन किया है कि वे ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को अधिक से अधिक मात्रा में नवीन तकनीकयुक्त दो गड्ढ़ों वाले शौचालय के निर्माण के लिए प्रेरित करें ताकि उन्हें स्वच्छ वातावरण मिल सके।  किशन सोमवार को जयपुर में पेयजल एवं स्वच्छता विभाग जल शक्ति मंत्रालय, भारत सरकार एवं पंचायतीराज विभाग, राजस्थान सरकार एवं यूनिसेफ के संयुक्त तत्वावधान में ‘‘सुजल एवं स्वच्छ गांव’’ पर जिला स्तरीय प्रशिक्षकों के 5 दिवसीय आवसीय प्रशिक्षण कार्यकर््रम के उद्घाटन सत्र में प्रतिभागियों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सन्दर्भ व्यक्ति प्रशिक्षण के उपरान्त ग्रामवासियों को सेप्टिक टैंक का निर्माण नहीं करने के लिए प्रेरित करें क्याेंकि सेप्टिक टैंक वाले शौचालय से अनेक प्रकार की जहरीली गैस उत्पन्न होती है, जिससे वायु प्रदूषण होता है, जबकि दो गड्ढ़ों वाला शौचालय मानव स्वास्थ्य व पर्यावरण के लिए उपयुक्त है इसमें पानी की खपत अपेक्षाकृत कम होती है तथा इसमें मानव मल को इस शौचालय में मानव मल जैविक व रासायनिक अपघटन से जैविक खाद में परिर्वतित कर देता है। यह खाद खेती व बागवानी के लिए भी उपयोगी होती है। उन्होंने कहा कि प्रशिक्षण कार्यशाला में विषय विशेषज्ञों द्वारा रेट्रोफिटिंग के बारे में व्यवहारिक जानकारी प्रदान की जावेगी। इस लिए सभी प्रशिक्षक प्रशिक्षण कार्यशाला का अधिकतम लाभ उठाये व दो गड्ढ़े वाले शौचालय निर्माण व रेट्रोफिटिंग के लिए आमजन की मानसिकता में बदलाव लाने का प्रयास करें। स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) के अति. प्रभारी  पराग चौधरी ने ग्रामीण क्षेत्रों में दो गड्ढ़ों वाले शौचालय निर्माण करवाने में लोगों के व्यवहार में बदलाव लाने पर बल दिया। उन्होंने कहा कि यहॉ प्रशिक्षण प्राप्त कर ब्लॉक व कलस्टर स्तर पर भी आपकों प्रशिक्षण देना है, इसलिए रेट्रोफिटिंग पुस्तक एवं दिशा निर्देशानुसार गहनता से प्रशिक्षण प्राप्त करें। प्रायमुव्ह, संस्थान, पुणे के निदेशक अजित फडनीस व नकनीकी सदस्यों ने हर परिस्थिति के दौरान ज्ञान एवं व्यवहार तथा दो गड्ढों वाले शौचालय के निर्माण की तकनीक आदि पर विस्तार से जानकारी प्रदान की। राजस्थान में यूनिसेफ के जल एवं स्वच्छता विशेषज्ञ  रूषभ हेमानी एवं  प्रियंका शर्मा ने तकनीकी सहयोग दिया। 

Sangri Times News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें.