रेडियो मधुबन 90.4 एफ.एम् पर होगी "सुनो, समझो - चुप्पी तोड़ो, बोलो हिंसा को नो" कार्यक्रम की शुरुवात

सिरोही। घरेलु हिंसा समूचे भारत में एक गंभीर विषय है. आबू तथा आस पास के गाँवों में इस विषय में महिलाओं की जागरूकता के लिए, हिंसा को नो कार्यक्रम की शुरुवात रेडियो मधुबन 90.4 एफ.एम् पर होने जा रही है। यह कार्यक्रम गैर सरकारी संस्थान स्मार्ट और ए.पी.पी.आई (अज़ीम प्रेमजी फिलेंथ्रोफीक इनिशियेटिव्स) दिल्ली के सहयोग से प्रसारित होंगे।

हर प्रकार की घरेलु हिंसा के बारे में जानकारी देने के लिए सामुदायिक रेडियो रेडियो मधुबन की और स्मार्ट संस्थान की इस पहल के अंतर्गत 1 और 2 फरवरी को ग्राम आमथला एवं नागपुरा की महिलाओं के लिए दो अलग अलग प्रशिक्षण कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। स्मार्ट संस्थान दिल्ली से पधारे नितिका, अर्चना कपूर तथा सत्यप्रकाश ने प्रशिक्षण का आयोजन किया।      
    
आमथला ग्राम पंचायत के सरपंच दिनेश जी एवं आंगनवाड़ी की कार्यकर्ता कैलाश एवं स्टाफ, महिला  विकास परियोजना के तत्वावधान में 25 महिलाओं को शुरुवाती ट्रेनिंग दी गयी। यहाँ पर "हिंसा को नो" शीर्षक से रेडियो मधुबन के जूनियर कलाकारों द्वारा एक नुक्कड़ नाटक की प्रस्तुति भी की गयी।

नागपुरा ग्राम में सरपंच प्रीति जी, आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं तथा आशा सहयोगिनी के तत्वावधान में लगभग 25 महिलाएं प्रशिक्षण कार्यक्रम में शामिल हुईं। यहाँ पर भी स्थानीय बच्चों द्वारा आदर्श गांव के लिए एवं महिलाओं के प्रति हिंसा को रोकने के लिएएक ड्रामा के माध्यम से नशा मुक्ति का सन्देश दिया गया।

मोरथला गाँव के महिला समूहों के संयोजक सुनीता और निर्मला एवं मुदरला गाँव के महिला समूहों के संयोजक पंखु देवी भी इस प्रशिक्षण में शामिल हुई। जहाँ पर भविष्य में इसी प्रकार के प्रशिक्षण आयोजित किए जाएँगे | कार्यक्रम में रेडियो मधुबन की ओर से इस पहल के संयोजक बी.के. पवित्र, बी.के. रमेश, आर.जे. आऋषी, आर.जे. उषा उपस्थित रहे।
 


सांगरी टाइम्स हिंदी न्यूज़ के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और टेलीग्राम पर जुड़ें .
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBEचैनल को विजिट करें