अपने कौशल का इस्तेमाल कर जोधपुर के छात्र ने समाज के लिए बना डाला... - Sangri Times

SPORTS

अपने कौशल का इस्तेमाल कर जोधपुर के छात्र ने समाज के लिए बना डाला एक अति उपयोगी ऐप

जोधपुर। आदर्श विद्यार्थी वह है जो ज्ञान या विद्या की प्राप्ति को जीवन का पहला आदर्श मानता है। जिसे विद्या की चाह नहीं वह आदर्श विद्यार्थी नहीं हो सकता। यह विद्या ही है जो मनुष्य को नम्र, सहनशील और गुणवान बनाती है। विद्या की प्राप्ति से ही विद्यार्थी आगे चलकर योग्य नागरिक बन पाता है। आदर्श विद्यार्थी देश के भविष्य में मददगार साबित होते हैं। वे ही बड़े होकर डॉक्टर, इंजीनियर, वैज्ञानिक,पत्रकार, आईएएस, आईपीएस, आदि बनते हैं। वे देश की सेवा करते हैं और अपने देश व परिवार का नाम ऊंचा करते हैं। देश की सेवा से याद आया कि आपको ज़रा एक ऐसे स्टूडेंट से इस लेख के ज़रिए मुखातिब करवाया जाए जो अपने आइडियाज़ और अपने पैशन से देश के लिए कुछ करना चाहते हैं। उनका नाम है  के.श्रीनाथ बोहरा, जोधपुर के रहने वाले और एमबीएम कॉलेज के छात्र श्रीनाथ बोहरा ने हाल ही में अपने कौशल से समाज, लोगों और प्रशासन की मदद करने के समक्ष एक बेहतरीन एप्प लांच किया है।

इस एप्प को लेकर श्रीनाथ से बात करने पर हमें पता चला कि ये एप्प हर चीज़ को ध्यान में रखते हुए डेवेलप किया गया है। खैर इसके ऊपर  बादमे चर्चा करेंगे पहले आपको बतादें की एप्प आखिर है किसके बारे में, ये काम करता कैसे है? और कैसे ये प्रशासन की मदद करने में सहयोगी है। श्रीनाथ बोहरा से मिली जानकारी के मुताबिक इस बनाने के पीछे एक कहानी भी अंकित है । श्रीनाथ बताते हैं की हाल ही में उनकी कॉलोनी को कोरोना वायरस के चलते कन्टेनमेंट जोन घोषित कर दिया गया था। इसको लेकर प्रशासन ने घर-घर डिलीवरी करने की सुविधा शुरू की पर हुआ ये की सप्लाई में काफी कम्मि आ गयी परिणाम ये हुआ कि कॉलोनी में रह रहे कई लोग पुलिस के खिलाफ नाराज़गी पर आ उतरे , हालात 2 - 3 दिनों तक सही स्तथि में ना आने से पुलिस को काफी मशहक़त करनी पड़ी । इसको लेकर श्रीनाथ बोहरा को एक एप्प तैयार करने का सूझा जोकि की एक ही समय पर कई लोगों तक पुलिस के माध्यम से चंद पलों में  सूचना पहुंचा सकता है । इस एप्प को तैयार करने से पहले श्रीनाथ ने एक आईडिया के तौर पर इसी के ऊपर आधारित  अल्फा वर्जन को भी विकसित किया था, धीरे-धीरे मास लेवल पर इस एप्प को ले जाने के लिए श्रीनाथ ने इसको लेकर एक सॉफ्टवेयर बना डाला। इसकी प्रमुख विशेषता के ऊपर नज़र डाली जाए तो ये एप्प एक चैटबॉट की कार्यप्रणाली के ऊपर आधारित है । खास बात ये है कि इस एप्प को किसी भी फ़ोन से ऑपरेट किया जा सकता है, वजह ये है कि ये एप्लिकेशन एसएमएस के माध्यम से बड़े स्तर पर संचार करता है, आपको सीधा सीधा समझाएँ तो ये एप्लिकेशन किसी एक पुलिस चेकपोस्ट पर काम कर रहे अधिकारियों या कॉन्स्टेबल के पास होगी जिसपर उस पुलिस अधिकारी या कांस्टेबल के पास यदि किसी भी तरह की सूचना आम नागरिकों के लिए आती है तो महज एक बटन दबाने से उस विशेष क्षेत्र में रह रहे लोगों तक सूचना पहुँच जाएगी, इसके लिए लोगों को पुलिस सब्सक्राइबर लिस्ट  से जुड़ने के लिए अपने किसी भी एक नंबर से पुलिस को एसएमएस करना होगा ये काम भी आटोमेटिक तरीके से ही एप्प के द्वारा होगा।

श्रीनाथ के मुताबिक इस एप्प को जो सबसे खास बनाती है वो ये है कि इस एप्प के माध्यम से लोगों का किसी भी तरह का डेटा ऑनलाइन ज़ाहिर नही होगा, इससे फाइदा ये है कि एक किसी विशेष चेकपोस्ट पर तैनात पुलिस कर्मी के हाथों केवल उसी क्षेत्र का डेटा उपलब्ध होगा जोकि हर मायनो में सुरक्षित भी रहेगा, न केवल एक क्षेत्र बल्कि अगर पूरे जयपुर के भी डेटा इस एप्प पर डाला जाए तो भी केवल 200 एमबी में ही वो डेटा कवर हो जाएगा जो बेहद इस एप्प को लग बनाती है। ये तो बात हुई एप्प को लेकर एक नज़र श्रीनाथ बोहरा के ऊपर भी डाली जाए तो वे एक इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियर हैं । वे कहते हैं आखिर हम इंजीनियर बन ही इसलिए रहे हैं क्योंकि हमें अपने समाज के इंजन को बनाए रखना है, और आज के हालातों में समाज का इंजन कोरोना से पीड़ित है । श्रीनाथ के इस एप्प को बनने के पीछे उनके कॉलेज के फैकल्टीज का भी योगदान रहा है जिसमें उनकी मदद खास तौर पर कॉलेज के  कंप्यूटर साइंस डिपार्टमेंट के प्रोफेसर अलोक सिंह गहलोत, अभिषेक गौर और इलेक्ट्रॉनिक्स डिपार्टमेंट के एचओडी राजेश बदादा ने की ।

श्रीनाथ बोहरा से उनकी भविष्य की प्लानिंग पर जब पूछा गया तब उनका कहना था कि वे भारत को अपना योगदान देश की प्रशिक्षित और एक मात्र स्पेस एजेंसी इसरो की मदद से देना चाहते हैं, वे इसरो के स्पेस एप्लीकेशन सेन्टर में काम करके भारत को योगदान देना चाहते हैं । श्रीनाथ के इस एप्प को बनाने की सफलता में उनके पिता सतीश बोहरा और माता रंजना बोहरा ने उनका काफी मनोबल और आत्मविश्वास जगाया है। इससे पहले भी श्रीनाथ के कई लेख अनेकों पत्रिकाओं में टेक्नोलॉजी के ऊपर छप चुके हैं । इसके अलावा श्रीनाथ ने अपने कौशल का परचम IIT मुम्बई , IIT दिल्ली और अन्य कई विश्वविद्यालयों में लेहराया है। श्रीनाथ बोहरा की इस सफलता और समाज को टेक्नोलॉजी से आगाह करने की दूरदर्शी सोच वाक़ई काबिलियत तारीफ है।

Sangri Times News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें.