भारतीय गौरव पुरस्कार से हिमाचल प्रदेश के लाडले योगेंद्र को सम्मानित किया जाएगा

सेव ह्यूमैनिटी ट्रस्ट द्वारा 14 अप्रैल 2023 को होटल गोल्डन टयूलिप ग्वाल पहाड़ी गुड़गांव हरियाणा में भारतीय गौरव पुरस्कार 2023 का आयोजन किया जाएगा।  जिसमें हिमाचल प्रदेश के जिला बिलासपुर से डॉक्टर योगेंद्र लाल को उनके मानव सेवा के लिए कार्य को देखते हुए आमंत्रण पत्र भेजा गया। डा ०  योगेन्द्र लाल जो कि हिमाचल […]

भारतीय गौरव पुरस्कार से हिमाचल प्रदेश के लाडले योगेंद्र को सम्मानित किया जाएगा
भारतीय गौरव पुरस्कार से हिमाचल प्रदेश के लाडले योगेंद्र को सम्मानित किया जाएगा
सेव ह्यूमैनिटी ट्रस्ट द्वारा 14 अप्रैल 2023 को होटल गोल्डन टयूलिप ग्वाल पहाड़ी गुड़गांव हरियाणा में भारतीय गौरव पुरस्कार 2023 का आयोजन किया जाएगा।  जिसमें हिमाचल प्रदेश के जिला बिलासपुर से डॉक्टर योगेंद्र लाल को उनके मानव सेवा के लिए कार्य को देखते हुए आमंत्रण पत्र भेजा गया।
डा ०  योगेन्द्र लाल जो कि हिमाचल प्रदेश के जिला बिलासपुर के छोटे से गाँव बाड़ी भराण नामक गाँव के रहने वाले हैं | 23 वर्ष की उम्र से ही समाज सेवा को अपने जीवन का उदेश्य बना लिया | वर्ष 2002 से दिव्यांग बच्चों को समाज की मुख्या धारा से जोड़ने के लिए बचनबद्ध है | वर्ष  2002 मैं बौधिक रूप से अक्षम लोगों के लिए एक संसथान का गठन किया  , जिसमे की दिव्यांग बच्चों को पड़ाई के साथ साथ खाना , रहना ,स्वास्थ्य सुबिधा इत्यादी निशुल्क उपलव्ध करवाई जाती है | योगेंदर लाल समाज सेवा के साथ साथ पेंटिंग का भी सुक रखते है | अपने समाज सेवा के क्षेत्र मैं उत्क्रष्ट कार्य करने वाले योगेंदर लाल को कई राष्ट्रीय व् अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कारों से समानित किया जा चूका है |
जिसमे की 2007 मैं हिमाचल श्री पुरस्कार , 2018 मैं शान ए बिलासपुर पुरस्कार, 2019 मैं शान ए भारत पुरस्कार,2021 बेस्ट सोशल सर्विस पुरस्कार,2021 फायर बॉक्स  इमर्जिंग सोशल वर्क पुरस्कार,2022 इंडियन बुक रिकॉर्ड , 2022 भारतीय समाज रत्न पुरस्कार, 2022 वर्ल्ड चेरिटी फाउंडेशन द्वारा बेस्ट सोशल वर्क पुरस्कार,2022 नेशनल प्राइड पुरस्कार,2022 एशिया पेसिफिक पुरस्कार 2022 एक्सीलेंस इन सोशल सर्विस पुरस्कार 2022 में होनोरारी डाक्टरेट मानक उपाधि  इत्यादि पुरस्कारों से समानित किया जा चूका है |
ट्रस्ट के कार्यकारिणी सदस्यों ने डॉक्टर योगेंद्र लाल को सहृदय धन्यवाद दिया और निरंतर इसी तरह से अपने मानव सेवा के कार्य को जारी रखने के लिए बताया।