एनजे वेल्थ डिस्ट्रीब्यूटर्स- भारत में म्यूचुअल फण्ड निवेश के विस्तार के लिए प्रतिबद्ध

नई दिल्ली (भारत), 29 जून: म्यूचुअल फंड निवेश, संपत्ति निर्माण और नियमित बचत का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन गए हैं। एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया (एएमएफआई) के अनुसार, म्यूचुअल फंड के बारे में बढ़ती जागरूकता के बावजूद, यह अनुमान लगाया गया है कि भारत की केवल 2.6 प्रतिशत आबादी ने म्यूचुअल फंड में निवेश […]

Jun 29, 2023 - 19:07
Jun 29, 2023 - 19:10
 0
एनजे वेल्थ डिस्ट्रीब्यूटर्स-  भारत में म्यूचुअल फण्ड निवेश के विस्तार के लिए प्रतिबद्ध
LR: Neeraj Choksi,Jignesh Desai,CO-Founder,NJ Group

नई दिल्ली (भारत), 29 जून: म्यूचुअल फंड निवेश, संपत्ति निर्माण और नियमित बचत का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन गए हैं। एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया (एएमएफआई) के अनुसार, म्यूचुअल फंड के बारे में बढ़ती जागरूकता के बावजूद, यह अनुमान लगाया गया है कि भारत की केवल 2.6 प्रतिशत आबादी ने म्यूचुअल फंड में निवेश किया है। इसके अलावा, जब जीडीपी अनुपात में म्यूचुअल फंड एयूएम के अनुपात को देखा जाता है, तो म्यूचुअल फंड की पहुंच अन्य देशों की प्रवेश दर की तुलना में काफी कम है, जहां अमेरिका, फ्रांस और यूके क्रमशः 140 प्रतिशत, 80 प्रतिशत, और 67 प्रतिशत (एएमएफआई और विश्व बैंक, 2021) की तुलना में भारत की हिस्सेदारी महज 17 प्रतिशत है।

 

भारत में म्यूचुअल फंड वितरकों की संख्या भी चिंता का विषय है। वर्तमान में, केवल 1.31 लाख वितरक हैं, जिसका अर्थ है कि प्रत्येक 10,000 व्यक्तियों के लिए एक से भी कम वितरक (एएमएफआई, 2023)। भारत में सबसे बड़े म्यूचुअल फंड वितरकों में से एक, एनजे वेल्थ, अधिक लोगों को म्यूचुअल फंड वितरण व्यवसाय में शामिल करने और इसे एक आशाजनक व्यावसायिक अवसर के रूप में देखने में सक्रिय भूमिका निभा रहा है। आज, एनजे वेल्थ के पूरे भारत में 32,500 से अधिक सक्रिय वितरक हैं जो वित्तीय जागरूकता फैलाने और जनता को म्यूचुअल फंड तक पहुंच प्रदान करने की दिशा में काम कर रहे हैं।

 

वित्तीय साक्षरता और नए जमाने के वित्तीय उत्पादों तक पहुंच के मामले में भूगोल, विविधता और असमानता भारत में एक बड़ी चुनौती है। हालाँकि, यह महत्वाकांक्षी उद्यमियों और देश के युवाओं के लिए म्यूचुअल फंड वितरक बनने और संभावित निवेशकों के लिए वित्तीय समावेशन को बढ़ावा देने का भी एक अवसर है। भारत आज अपनी अर्थव्यवस्था और बाजारों को बदलने में एक बड़ी छलांग लगाने के लिए तैयार है, और ‘‘अमृत काल‘‘ का दृष्टिकोण इस बात पर भी लागू होगा कि लोग कैसे बचत करेंगे और निवेश करेंगे। हाल के वर्षों में उद्योग की उत्साहजनक वृद्धि तो बस शुरुआत है। आज जरूरत इस बात की है कि अधिक से अधिक युवा आने वाले दशकों में होने वाले परिवर्तन में अवसर देखें और म्यूचुअल फंड वितरण को एक कैरियर अवसर के रूप में अपनाएं। निवेशकों के लिए, मंच पहले से ही तैयार है, और हम केवल अधिक से अधिक लोगों को म्यूचुअल फंड के साथ भारत के विकास की कहानी में भाग लेते देखने की उम्मीद करते हैं। आख़िरकार, ‘‘म्यूचुअल फंड सही है‘‘ है ना?